परम्पराओं के नाम पर ज़ारी है अधार्मिक और अवैज्ञानिक कार्य

unscientific work on the name of traditions

कुछ प्रथाएं ऐसी हैं जो धर्म या परंपरा के नाम पर हज़ारो सालों से ज़ारी हैं, लेकिन जो वस्तुतः घोर अधार्मिक और अवैज्ञानिक हैं। बंद जलाशयों या तालाबों में मछलियों को आटा खिलाना उनमें सर्वाधिक प्रचलित प्रथा है। किसी भी धार्मिक स्थल पर तालाबों में ऐसा करते सैकड़ों लोग आपको मिल जाएंगे। Continue reading “परम्पराओं के नाम पर ज़ारी है अधार्मिक और अवैज्ञानिक कार्य”

नेता तुम्हीं हो कल के….

rajanish priyadarshi

सामाजिक सरोकार से जुड़े हुए प्रशिक्षित योग्य व्यक्ति अगर मुख्यधारा में नहीं आए तो फिर राजनीति जैसे पवित्र शब्द को लोग गाली समझते रहेंगे । और हमने मिथिला के सैकड़ों युवाओं को प्रशिक्षित किया है वो परिपक्व हो रहें है । Continue reading “नेता तुम्हीं हो कल के….”

“आंधियों में भी दीये जलाने” की क्षमता उनमें थी

atal-bihari-vajpayee and modi ji

अटल जी अब नहीं रहे। मन नहीं मानता। अटल जी, मेरी आंखों के सामने हैं, स्थिर हैं। जो हाथ मेरी पीठ पर धौल जमाते थे, जो स्नेह से, मुस्कराते हुए मुझे अंकवार में भर लेते थे, वे स्थिर हैं। अटल जी की ये स्थिरता मुझे झकझोर रही है, अस्थिर कर रही है। एक जलन सी है आंखों में, कुछ कहना है, बहुत कुछ कहना है लेकिन कह नहीं पा रहा। मैं खुद को बार-बार यकीन दिला रहा हूं कि अटल जी अब नहीं हैं, लेकिन ये विचार आते ही खुद को इस विचार से दूर कर रहा हूं। क्या अटल जी वाकई नहीं हैं? नहीं। मैं उनकी आवाज अपने भीतर गूंजते हुए महसूस कर रहा हूं, कैसे कह दूं, कैसे मान लूं, वे अब नहीं हैं। Continue reading ““आंधियों में भी दीये जलाने” की क्षमता उनमें थी”

अटल जी की 5 प्रसिद्ध कविताएँ

hindi-poetry-of-atal-ji

अटल जी कहते थे, “मेरी कविता जंग का एलान है, यह पराजय की प्रस्तावना नहीं | वह हारे हुए सिपाही का नैराश्य-निनाद नहीं, जूझते यौद्धा का जय संकल्प है, वह निराशा का स्वर नहीं, आत्मविश्वास का जयघोष है |” अटल जी ने अपने जीवन काल में कई कविताएं लिखीं | प्रस्तुत है उनकी कविता संग्रह ‘मेरी इक्वावन कविताएं’ से 5 प्रसिद्ध कविताएँ | Continue reading “अटल जी की 5 प्रसिद्ध कविताएँ”

पत्रकार, पत्रकारिता और अटल जी

Atal Bihari Vajpayee

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का एम्स में निधन हो गया । पूरे देश में शोक की लहर फैल गयी। लोग अपने-अपने तरीके से उन्हें याद कर रहे हैं। वाजपेयी जी को याद करने के कई कारण हैं। देश उन्हें केवल एक प्रधानमंत्री के रूप में ही नहीं बल्कि एक पत्रकार, कवि, ओजस्वी वक्ता, राजनीति के आजातशत्रु होने के साथ एक पत्रकार के रूप में भी जानता है ।  Continue reading “पत्रकार, पत्रकारिता और अटल जी”

दया वाली भीख मत दीजिए ! भरोसा करना सीखिए

shalni jha

एक नन्हीं सी जान जो इतनी नाजुक होती है, जैसे ओस की बूंदे इतनी खूबसूरत जैसे सर्दी की धूप । ईश्वर की वह रचना जिससे इस सृष्टि का सृजन होता है, वह बेटी होती है, पत्नी होती है, बहन होती है, मां होती है, और दोस्त भी । फिर उस बेटी, बहन, मां और दोस्त के साथ गलत कौन और क्यों करता है ? हम हर दिन देख रहे हैं। हर क्षण एक स्त्री की गरिमा को धूमिल किया जा रहा है। Continue reading “दया वाली भीख मत दीजिए ! भरोसा करना सीखिए”

क्या वाकई हम आजाद हैं ?

Are we really free

प्रत्येक वर्ष 15 अगस्त हम भारतीयों के लिए विशेष दिन होता है। तीन राष्ट्रीय त्योहारों में से एक स्वतंत्रता दिवस हमें जश्न मनाने का सुअवसर प्रदान करता है। हरेक वर्ष हम इस दिन गुलामी,संघर्ष,आंदोलन,शहीदों और आजादी को याद करते हैं। इन तमाम उत्सवों और हर्षोल्लासों के बीच एक प्रश्न बार-बार हमारे जेहन में उठता है- क्या वाकई हम आजाद हैं?क्या यही हमारी वास्तविक आजादी है? Continue reading “क्या वाकई हम आजाद हैं ?”

कभी अलविदा ना कहना !

Kishore Kumar

अपने सार्वजनिक जीवन में बेहद चंचल, खिलंदड़े, शरारती और निजी जीवन में बहुत उदास, खंडित, तन्हा किशोर कुमार रूपहले परदे के सबसे रहस्यमय और सर्वाधिक विवादास्पद व्यक्तित्वों में एक रहे हैं जिनकी एक-एक अदा, जिनकी एक-एक हरकत उनके जीवन-काल में ही किंवदंती बन गईं। Continue reading “कभी अलविदा ना कहना !”

अपनी मिट्टी से जुड़ा बिदेसिया !

Bhikhari Thakur

भोजपुरी माटी और अस्मिता के प्रतीक स्व. भिखारी ठाकुर भोजपुरी के शेक्सपियर कहे जाते हैं। अपनी जमीन, उसकी सांस्कृतिक और सामाजिक परंपराओं तथा राग-विराग की जितनी समझ भिखारी ठाकुर को थी, उतनी किसी अन्य भोजपुरी कवि-लेखक में दुर्लभ है। Continue reading “अपनी मिट्टी से जुड़ा बिदेसिया !”

तंग आ गए हैं कशमकश-ए-ज़िन्दगी से हम !

guru dutt

गुरुदत्त उर्फ़ वसंत शिवशंकर पादुकोन को हिंदी सिनेमा का सबसे स्वप्नदर्शी और समय से आगे का फिल्मकार कहा जाता है। वे वैसे फिल्मकार थे जिनकी तीन फिल्मों – ‘प्यासा’, ‘साहब बीवी गुलाम’ और ‘कागज़ के फूल’ की गिनती विश्व की सौ श्रेष्ठ फिल्मों में होती हैं। Continue reading “तंग आ गए हैं कशमकश-ए-ज़िन्दगी से हम !”