Skip to main content

बारिश और बेपरवाह !

gaanw

Baarish or Beparwah आज सुबह से ही मौसम काफ़ी अच्छा था, घर से ऑफिस के लिए अभी निकला ही था कि बारिश शुरू हो गयी, सामने एक मकान था तो फटफटिया खड़ा कर छज्जे के नीचें शरण लिया, काफ़ी देर तक  (more…)

Read More

मेरे भीतर का “बुद्ध”

बुद्ध पूर्णिमा था और संयोग से कुशीनगर से गुजर रहे थे । इसी दिन गौतम बुद्ध कुशीनगर में महानिर्वाण प्राप्त किये थे । वहाँ मेला लगा हुआ था पर फिर भी हर जगह शांति थी । ज्यादा देर रहना नहीं हुआ पर आगे के पूरे रास्ते बुद्ध के बारे में सोचता आया । (more…)

Read More

‘पुलिसिया पंचतंत्र – भेड़िये और जनता की कहानी’ ।

Indian Police

विचार बिंदु  के इस अंक में प्रस्तुत है, हमारे पुलिस महकमे में व्याप्त भ्रष्टाचार की वजहों और निदान के रास्तों की पड़ताल करता कवि, लेखक व पूर्व आईपीएस अधिकारी   “ध्रुव गुप्त” जी का आलेख ‘पुलिसिया पंचतंत्र – भेड़िये और जनता की कहानी’

(more…)

Read More

हॉट केक बन रहा है मिथिला आन्दोलन

praveen jhaजय मिथिला-जय मैथिली के युग्म से पैदा हुआ एक आंदोलन आजकल हॉट केक बना हुआ है। दरभंगा से दिल्ली तक हर वीकेंड पर इसकी पारम्परिक आहट आप महसूस कर सकते हैं। इसकी डिटेल रिपोर्टिंग और रणनीति फेसबुक पर 24/7 देख सकते हैं । कुछ बहुत सक्रीय संगठनों का दावा है कि बस अब क्रान्ति का फाइनल स्टेज लॉन्च होने ही वाला है । (more…)

Read More

जानिए हम कितने सहिष्णु हैं ?

satyam kumar jhaहम सब पूरे खलिहर हैं । एक बार और ये बात साबित कर दिये । पता नहीं क्यों हम एक सड़क छाप मुद्दे को राष्ट्रीय विपत्ति बनाने पर तूल जाते हैं । फेसबूक पे दो खेमा है… (more…)

Read More

देश का ये चुप्पी वाला एटीट्यूड घातक है भाई !

Indo-Pak-Relationलगभग पच्चीस साल पहले किसी पत्रिका में पढ़ा था, एक बहुत ही शक्तिशाली, बाहुबली योद्धा था । उसके पड़ोस में एक दुबला-पतला, फुर्तीला आदमी रहता था । दोनों के बीच…. (more…)

Read More

गाँव से इतना इरिटेसन क्यों ?

sagar jhaजहाँ आज की युवा पीढ़ी गाँव को हेट करने लगी हैं वहीं कुछ युवा गाँव से जुड़ी बातें, यादें एवं सपनो को कलम से सजा कर पेश करते रहते हैं तो आईये पढ़ते है सागर झा के कलम से निकला यह आलेख “गाँव से इतना इरिटेसन क्यों ?” (more…)

Read More

आधुनिक लोग और उनकी “छि:” वाली सोच !

thinking-of-modern-people

हम कहते हैं हम मॉडर्न हो रहें हैं, विकास कर रहें हैं, सच में !  क्या आपने शरीर के बारे में जाना, ये जाना कि हमारा शारीरिक तन्त्र ( system ) कैसे काम करता है ? (more…)

Read More