Skip to main content

बाबा नागार्जुन की कविताएँ

nagarjun-poems-in-hindi

प्रस्तुत है, वैद्यनाथ मिश्र “यात्री” यानी बाबा नागार्जुन की कविताएँ बादल को घिरते देखा है,  कालिदास! सच-सच बतलाना !बांकी बच गया अंडा, इन घुच्ची आँखों मेंअकाल और उसके बाद । (more…)

Read More