Skip to main content

महान वैज्ञानिक Albert Einstein महोदय के 21 अनमोल विचार

Albert-Einstein vbc1

महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन का जन्म 14 मार्च 1879 को जर्मनी में हुआ था । भोतिकी विज्ञान के क्षेत्र में सापेक्षता के सिद्धांत और द्रव्यमान-ऊर्जा समीकरण E = m c 2 के लिए जाने जाते हैं । इन्हें सैद्धांतिक भौतिकी, खासकर प्रकाश-विद्युत ऊत्सर्जन की खोज के लिए 1921 में नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया । आईये पढ़ें इनके 21 अनमोल विचार । (more…)

Read More

आ बैल मुझे मार !

avinash bharadwajहमारे यहाँ जिंदगी कॉस्ट कटिंग से शुरू होती है और कॉस्ट कटिंग से लेकर सेविंग तक जाकर खत्म हो जाती है । घर-घर की यही कहानी है । ना जाने यहाँ इंसान पैदा होने से लेकर मरते दम तक खोया-खोया  सा रहता है । (more…)

Read More

बुढ़िया,हँसुआ,घास और विकास !

दोपहर बीत चुकी है । फागुन की ठंडी हवाओं ने कब करवट ली और चैत्र मास के लूँ के थपेड़ों ने मन को विचलित करना शुरू कर दिया यह पता ही नहीं चला । दलान से… (more…)

Read More

जाति नहीं व्यव्स्था बदलो !

Avinashउस दलित बस्ती के चौक पर बैठकर ब्राह्मण होने के कारण हमने जितनी गालियां सुनी थी उसकी कल्पना हमने सपनों में भी नहीं की थी । सच कहूं उस दिन मुझे पता चला मैं ब्राह्मण हूं, नहीं तो देश के विभिन्न… (more…)

Read More

हम मिथिला के विकास के लिये माँगते हैं ।

we beg for the devlopment of Mithila.अब कानों को सुनने से तो नहीं रोक लीजिएगा, तो हमने भी सुन लिया । यूं ही चलते चलते कोई कह रहा था कि हम मांगते हैं । जी हाँ पैसा । जब कानों ने सुन ही लिया तो दिल और दिमाग पर क्या बिता होगा वह तो पता नहीं लेकिन बता दूं… (more…)

Read More

चट्टानी एकता जरूरी है मिथिला के विकास के लिए !

Mithila_Map-2आज यह सवाल उठता है कि हम पिछड़े क्यों ? पूरे विश्व की सबसे उपजाऊ मिटटी बंजर कैसे हो गई ? पलायन घर घर की कहानी कैसे बन गई ? हमारे मां, बाप, भाई, बहन की आंखें रेलवे स्टेशन को….

(more…)

Read More

चुपचाप कम्बल ओढ़ घी पीते रहिये !

alon_vbcऐसा कभी होता नहीं था । समय बदला जिम्मेवारी बदली और फिर यूँ लगा कि आसपास का पूरा संसार ही बदल गया । हर पल गुस्सा आना, मुहं से गाली निकलना, चिड़चिड़ापन जीवन का एक अंग बन गया । सुहाने सपने…. (more…)

Read More

बालकनी के प्रेम कथा का निर्दयी अंत !

balcony_vbcदिसम्बर के धुप में यूँ ही बालकनी के दूसरी तरफ मुड़ बैठ गया था | बादलों के बीच सूरज की आँख मिचौली में बालकनी की ठंडी हवा मन को मोह रही थी | एकाएक नजरें उठी और दूर के बालकनी पर जाकर अटक गई | एक खूबसूरत जवान कन्या ! (more…)

Read More

राशन कार्ड ….

raasan-counter-image-vicharbindu-comसीना ठीक कर उस अधेर उम्र के व्यक्ति ने भड़ी बस में बोला था । सरकार राशन बँटना बंद करे । दिल तो मेरा भी मचला, दिमाग में गुस्सा को साया लहराने लगा जबाब देने को, उलझा तो था ही परंतु कुछ सोच पीछे हट गया ….. (more…)

Read More

छठ के बाद…

image-of-panchayat-in-village-vicharbindu-comछठ के अगले ही दिन आप देखियेगा मिथिला के हर दलान पर फिर पंचायत बैठेगी । मुद्दा वही भाई-भाई के बीच जमीन जायदाद का बंटबारा, धुर कट्ठा जमीन के लिये पंचायती, गाली गलोज से लेकर मारपीट तक ! (more…)

Read More