Kshitiz Roy vicharbindu

मेरे पापा न्यूटन नहीं थे

96-97-98 का कोई लोक सभा/ विधान सभा चुनाव रहा होगा। राज्य के तमाम शिक्षकों की तरह ही पापा चुनाव कार्य में presiding अधिकारी पाये गए थे। कुछ और याद नहीं […]