Skip to main content

मन में उमड़ता यादों का सावन

man-mein-umadata-yaadon-ka-saavan

डायरी के पन्नों से  – ‘मन में उमड़ता यादों का सावन’, विश्व साहित्य से लेकर अपने लोक भाषा के साहित्य में रूचि रखने वाले बालमुकुन्द एक समीक्षक, आलोचक, कवि एवं प्रेम से भींगे हुए इंसान हैं । और ये इंसान जब कभी प्रेम की बात लिखता है तो लगता है कि कहानी का सारा किरदार बिखरकर हमारे आसपास आ गया है…. (more…)

Read More