Skip to main content

रामधारी सिंह दिनकर – कुरुक्षेत्र

dinkar रामधारी सिंह दिनकर का जन्म : 23 सितम्बर 1908 को बिहार के मुंगेर जिला के सिमरिया में हुआ था । दिनकर जी वीर रस के सर्वश्रेष्ठ कवि के रूप में प्रख्यात हुए । इन्हें पद्मभूषण, साहित्य अकादमी तथा भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार से नवाजा गया । आईये पढ़ें इनके काव्य “कुरुक्षेत्र” का कुछ अंश जिसमें इन्होंने युद्ध को क्रूर कर्म बताया है । (more…)

Read More

वीरांगना झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई ।

lakshmibaiभारतीय स्वंत्रता संग्राम के इतिहास की वीरांगना “झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई” जो 23 वर्ष की अवस्था में ही ब्रिटिश सैनिकों से लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हो गई । आईये पढ़ते हैं सुभद्रा कुमारी चौहान की कविता  “झाँसी की रानी” । (more…)

Read More

पांडव का संदेश – रामधारी सिंह दिनकर

ramdhari shingh dinkar  प्रिय पाठकों प्रस्तुत है रामधारी सिंह “दिनकर” की ए रचना……..

“वर्षों तक वन में घूम-घूम, बाधा-विघ्नों को चूम-चूम,

सह धूप-घाम, पानी-पत्थर, पांडव आये कुछ और निखर। (more…)

Read More

दुष्यंत कुमार

Dusyant kumarमित्रों प्रस्तुत है, दुष्यंत कुमार की लोकप्रिय प्रेरणात्मक कविताएँ ……… ” हो गई है पीर- पर्वत सी । कुछ भी बन बस , कायर मत बन । और ये जो शहतीर है ।

 “सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं,                                                                  सारी कोशिश है, कि ए सूरत बदलनी चाहिए।”

(more…)

Read More

संत कबीरदास के दोहें

kabir das प्रिय पाठकों प्रस्तुत है, मानव जीवन के वास्तविकताओं से पूर्ण संत कबीरदास जी के दोहे और उसका अनुवाद । हिंदी साहित्य में अपना विशिष्ट स्थान रखने वाले कबीरदास जी मानव जीवन के रहस्यों को आसानी से दोहे के माध्यम से समझा देते है । आगे …. (more…)

Read More

कवि सुमित्रानंदन पंथ

सुमित्रानंदन पंथ हिंदी साहित्य के छायावाद, रहस्यवाद एवं प्रगतिवादी कविसुमित्रानंदन पंथ” का जन्म 20 मई 1900 में एवं अवसान 28 दिसम्बर 1977 को हो गया । हिंदी साहित्य की अनवरत सेवा के लिए इन्हें 1961 में पद्मभूषण 1968 में ज्ञानपीठ, साहित्य अकादमी एवं सोवियत लैंड नेहरु पुरुस्कार जैसे उच्च श्रेणी के सम्मानों से अलंकृत किया गया…… (more…)

Read More

श्री अटल बिहारी वाजपेयी

ATAL BIHARI VAJPAYEEमित्रों प्रस्तुत है, अद्भुत राजनीतिक प्रतिभा के धनी, राष्ट्र सेवक परम आदरणीय भारतरत्न श्री अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 25 दिसम्बर  1924  को MP में हुआ था । एक उदार,  विवेकशील, निडर, सरल, सहज  राजनेता के रूप में  इनकी छवि अत्यंत लोकप्रिय रही है । वाजपेयी जी एक ओजस्वी वक्ता, कवि की संवेदनाओं से भरपूर इनका भावुक ह्रदय है…….. (more…)

Read More

रवीन्द्रनाथ टैगोर के प्रेरणात्मक विचार

Rabindranath tagoreमित्रों प्रस्तुत है,  विश्वविख्यात साहित्यकार, चित्रकार, दार्शनिक, शिक्षाशास्त्री रवीन्द्रनाथ टैगोर के विचार जो हमारे देश के एक गोरवशाली वक्तित्व थें, इनका जन्म 7 मई सन 1861 को कोलकाता में हुआ । इन्हें नोबल पुरस्कार के प्रथम भारतीय होने का गोरव प्राप्त है । इनकी रचना गीतांजली जिसमें धर्म, दर्शन, एवं विश्व मानवता के अनूठे संदेश से अनुप्रमाणित है, पर  1913  को साहित्य का नोबेल पुरस्कार मिला  । (more…)

Read More