दो शहरों की कहानी

a-tale-of-two-cities-in-hindi

एक मुसाफिर ने सड़क के किनारे बैठी महिला से पूछा, आगे जो शहर आने वाला है, उस शहर के लोग कैसे हैं ? ‘तूम जहाँ से आ रहे हो वहाँ के लोग कैसे थे ?’ – महिला ने पूछा. Continue reading “दो शहरों की कहानी”

एक प्रेरणात्मक हिंदी कहानी

An inspirational Hindi story

गाँव में एक किसान रहता था जो दूध से दही और मक्खन बनाकर बेचने का काम करता था । एक दिन उसकी बीवी ने उसे मक्खन तैयार करके दिया वो उसे बेचने के लिए अपने गाँव से शहर की तरफ रवाना हुवा । Continue reading “एक प्रेरणात्मक हिंदी कहानी”

संत रविदास और पथिक – प्रेरक प्रसंग

sant ravidash
सुमिरन करते हुए अपने कार्य में तत्लीन रहने वाले संत रविदास जी आज भी अपने जूती गांठने के कार्य में तल्लीन थे, अरे..! मेरी जूती थोड़ी टूट गई है इसे गाँठ दो.. राह गुजरते एक पथिक ने  रविदास जी से थोड़ा दूर खड़े हो कर कहा ।

Continue reading “संत रविदास और पथिक – प्रेरक प्रसंग”

आपके अंदर का “मैं” यानी अभिमान

your-inner-i-means-pride

सुकरात समुन्द्र तट पर टहल रहे थे । उनकी नजर तट पर खड़े एक रोते बच्चे पर पड़ी । वो उसके पास गए और प्यार से बच्चे के Continue reading “आपके अंदर का “मैं” यानी अभिमान”

लघुकथा – सर्वश्रेष्ठ चित्रकार

sarvashreshth chitrakaar

लघुकथा – “सर्वश्रेष्ठ चित्रकार” एक समय की बात है । एक राजा ने घोषणा किया, कि शांति का सबसे अच्छा चित्र बनाने वाले चित्रकार को पुरस्कृत किया जाएगा । इस प्रतियोगिता के लिए हजारों  चित्रकारों ने अपने चित्र भेजे, पर राजा को उन में से दो ही पसंद आए । अब उसे इन्हीं में से विजेता का फैसला करना था…. Continue reading “लघुकथा – सर्वश्रेष्ठ चित्रकार”

लघुकथा – संगीत का ज्ञान ।

short hindi story
यह बुद्ध के जीवन से सम्बंधित कहानी है । एक दोपहर को जब बुद्ध ध्यानमग्न थे । पास- पड़ोस से बहुत सारी आवाजें आ रही थीं । एक संगीतकार किसी दूसरे संगीतकार से बातचीत कर रहा था ।

Continue reading “लघुकथा – संगीत का ज्ञान ।”

मैं अपने घर का बादशाह हूँ

image of premchand

उपन्यास सम्राट प्रेमचंद अत्यंत स्वाभिमानी प्रकृति के व्यक्ति थे । उन्होंने तत्कालीन ब्रिटिश सरकार द्वारा प्रस्तावित राय साहब की उपाधि लेने से इनकार कर दिया था, और कहा था । “मैं जनता का लेखक हूं, और जनता के लिए ही लिखते रहना चाहता हूं । रायसाहब बनने के बाद मुझे सरकार के लिए लिखना पड़ेगा । जो मुझे कतई स्वीकार नहीं है । “

Continue reading “मैं अपने घर का बादशाह हूँ”

लघुकथा – पिता और पुत्र

short hindi story

एक बूढ़ा व्यक्ति अपने पुत्र के साथ सोफे पर बैठा हुआ था । अचानक घर की खिड़की पर एक कौआ आ कर बैठ गया । पिता ने पुत्र से पूछा, ‘यह क्या है ?’ Continue reading “लघुकथा – पिता और पुत्र”