Skip to main content

लघुकथा – सर्वश्रेष्ठ चित्रकार

sarvashreshth chitrakaar

लघुकथा – “सर्वश्रेष्ठ चित्रकार” एक समय की बात है । एक राजा ने घोषणा किया, कि शांति का सबसे अच्छा चित्र बनाने वाले चित्रकार को पुरस्कृत किया जाएगा । इस प्रतियोगिता के लिए हजारों  चित्रकारों ने अपने चित्र भेजे, पर राजा को उन में से दो ही पसंद आए । अब उसे इन्हीं में से विजेता का फैसला करना था…. (more…)

Read More

लघुकथा – संगीत का ज्ञान ।

short hindi story
यह बुद्ध के जीवन से सम्बंधित कहानी है । एक दोपहर को जब बुद्ध ध्यानमग्न थे । पास- पड़ोस से बहुत सारी आवाजें आ रही थीं । एक संगीतकार किसी दूसरे संगीतकार से बातचीत कर रहा था ।

(more…)

Read More

मैं अपने घर का बादशाह हूँ

image of premchand

उपन्यास सम्राट प्रेमचंद अत्यंत स्वाभिमानी प्रकृति के व्यक्ति थे । उन्होंने तत्कालीन ब्रिटिश सरकार द्वारा प्रस्तावित राय साहब की उपाधि लेने से इनकार कर दिया था, और कहा था । “मैं जनता का लेखक हूं, और जनता के लिए ही लिखते रहना चाहता हूं । रायसाहब बनने के बाद मुझे सरकार के लिए लिखना पड़ेगा । जो मुझे कतई स्वीकार नहीं है । “

(more…)

Read More

बुजुर्गो की अहमियत !

importance-of-the-elderly-in-hindi

गाँव से लेकर शहर तक हर जगह आज बुजुर्गो की उपेक्षा हो रही है । ये हमें पाल-पोस कर बड़ा करते हैं, और जब हमारी उनको जरूरत होती है, तो उनसे दो पल बात करने का भी हमारे पास समय नहीं होता । हम अपने काम में इतने ही मशगुल हो गए हैं, की भूल ही गए है की हमारे “बुजुर्गो की क्या अहमियत है”  (more…)

Read More

एक चिड़िया, जो बनी पूरी ज़िन्दगी की प्रेरणा

life-changing-story-in-hindi

यह प्रसंग अमेरिका के एक छोटे से बच्चे की है, जिसका नाम डिफोस्ट था । जो विषम परिस्थिति में भी अपने सपने को साकार किया एक छोटी सी चिड़ियाँ से प्रेरणा ले कर……. (more…)

Read More

पूर्ण सत्य जाने बिना प्रतिक्रिया न दें !

full truth vbcएक यूवक सीढियों से गिर कर घायल हो गया । उसके पिता तत्काल उसे लेकर अस्पताल गए । वहाँ आवश्यक जाँच के बाद पता चला की यूवक के शरीर में तिन जगह गंभीर फ्रेक्चर है । ऑपरेशन की आवश्यकता देखते हुए सीनियर डॉ को बुलाया गया । आगे …. (more…)

Read More

ह्रदय परिवर्तन – प्रेरणात्मक कथा ।

angulimalaप्राचीनकाल की बात है । मगध सम्राज्य में सोनपुर नाम के गाँव की जनता में आतंक छाया हुआ था । अँधेरा होते ही लोग घरों से बाहर निकलने की हिम्मत नहीं जूटा पाते थे, कारण था अंगुलिमाल । अंगुलिमाल एक खूंखार डाकू था जो वहाँ के जंगल में रहता था । जो भी राहगीर.. (more…)

Read More