क्या किसी अजनबी से प्रेम हो जाना मात्र एक कल्पना है ?

Is love being a stranger to a fantasy

किसी अजनबी से प्रेम का हो जाना, इसकी पुष्टि करने के लिए अभी तक कोई संस्था ब्रह्माण्ड में नहीं है और न इसकी डिग्री नापने के लिए किसी भी तरह के यूनिट व् किसी प्रकार के बैरोमीटर का आविष्कार अभी तक नहीं हो पाया है फिर भी व्यक्ति अपने विवेक का उपयोग करके इस बेहद से कल्पनाशील भाव में अपनी जिंदगी या तो अपने प्रेम के साथ गुजार देता है नहीं तो विरह में अकेले रह जाता है और बहुत से केस में वो अपने शारीरिक जरूरतों के कारण समाज द्वारा अप्रूव्ड रिश्ते में खुद बाँध लेता है और कल्पना का गुब्बारा फोड़ देता है |

Continue reading “क्या किसी अजनबी से प्रेम हो जाना मात्र एक कल्पना है ?”

होती है गलतफहमी, टूट जाते हैं रिश्ते

Think and Live Long Relationship

एक जौहरी के निधन के बाद उसका परिवार संकट में पड़ गया । खाने के भी लाले पड़ गए । एक दिन उसकी पत्नी ने अपने बेटे को नीलम का एक हार देकर कहा – ‘बेटा, इसे अपने चाचा की दुकान पर ले जाओ । कहना इसे बेचकर कुछ रुपये दे दें । बेटा वह हार लेकर चाचा जी के पास गया । Continue reading “होती है गलतफहमी, टूट जाते हैं रिश्ते”

“संजीदा” पति चाहिए “खरीदा” हुआ नहीं

Shalini Jha

पटना विश्वविद्यालय से मनोविज्ञान में स्नातकोत्तर शालिनी झा अपनी माँ को पत्र लिखती हैं, जिसमें  मध्यमवर्गीय परिवार की औसत लडकियाँ प्रेषक की भूमिका में प्रतीत हो रहीं हैं । “संजीदा“ पति चाहिए “खरीदा“ हुआ नहीं । Continue reading ““संजीदा” पति चाहिए “खरीदा” हुआ नहीं”

बुजुर्गो की अहमियत Importance Of The Elderly

Importance Of The Elderly

गाँव से लेकर शहर तक हर जगह आज बुजुर्गो की उपेक्षा हो रही है । ये हमें पाल-पोस कर बड़ा करते हैं, और जब हमारी उनको जरूरत होती है, तो उनसे दो पल बात करने का भी हमारे पास समय नहीं होता । हम अपने काम में इतने ही मशगुल हो गए हैं, की भूल ही गए है की हमारे “बुजुर्गो की क्या अहमियत है”  Continue reading “बुजुर्गो की अहमियत Importance Of The Elderly”

हम प्यार में क्यूँ पड़ते हैं ?

amount-of-sex

प्यार में पड़ने से ज्यादा powerful और तेज कुछ भी नहीं है । हम सभी कहीं ना कहीं रोमांटिक feelings के बारे में जानते हैं , है ना ? लेकिन actually क्या ऐसा होता है हमारे brain में कि हम feel करने लगते हैं, कि मेरे दोस्त मैं प्यार में पड़ चूका हूँ ? और किस तरह ये feeling दोनों तरफ (लड़का-लड़की) से होना शुरू हो जाता  है ?

Continue reading “हम प्यार में क्यूँ पड़ते हैं ?”

आधुनिक लोग और उनकी “छि:” वाली सोच !

thinking-of-modern-people

हम कहते हैं हम मॉडर्न हो रहें हैं, विकास कर रहें हैं, सच में !  क्या आपने शरीर के बारे में जाना, ये जाना कि हमारा शारीरिक तन्त्र ( system ) कैसे काम करता है ? Continue reading “आधुनिक लोग और उनकी “छि:” वाली सोच !”