http://shop.pacificviewequine.com/product/4-inch-vet-wrap/ Deprecated: Function create_function() is deprecated in source link /home/h9fcmg5dm2qc/public_html/vicharbindu.com/wp-includes/http.php on line source link 311

Deprecated: Function create_function() is deprecated in /home/h9fcmg5dm2qc/public_html/vicharbindu.com/wp-includes/rest-api/class-wp-rest-request.php on line 984

Deprecated: Function create_function() is deprecated in /home/h9fcmg5dm2qc/public_html/vicharbindu.com/wp-includes/rest-api/endpoints/class-wp-rest-posts-controller.php on line 2300

Deprecated: Function create_function() is deprecated in /home/h9fcmg5dm2qc/public_html/vicharbindu.com/wp-includes/rest-api/endpoints/class-wp-rest-posts-controller.php on line 2300

Deprecated: Function create_function() is deprecated in /home/h9fcmg5dm2qc/public_html/vicharbindu.com/wp-includes/rest-api/fields/class-wp-rest-comment-meta-fields.php on line 41
Relationship / सम्बंध Archives - Vichar Bindu

Category: Relationship / सम्बंध

क्या किसी अजनबी से प्रेम हो जाना मात्र एक कल्पना है ?

किसी अजनबी से प्रेम का हो जाना, इसकी पुष्टि करने के लिए अभी तक कोई संस्था ब्रह्माण्ड में नहीं है और न इसकी डिग्री नापने के लिए किसी भी तरह के यूनिट व् किसी प्रकार के बैरोमीटर का आविष्कार अभी तक नहीं हो पाया है फिर भी व्यक्ति अपने विवेक का उपयोग करके इस बेहद

होती है गलतफहमी, टूट जाते हैं रिश्ते

एक जौहरी के निधन के बाद उसका परिवार संकट में पड़ गया । खाने के भी लाले पड़ गए । एक दिन उसकी पत्नी ने अपने बेटे को नीलम का एक हार देकर कहा – ‘बेटा, इसे अपने चाचा की दुकान पर ले जाओ । कहना इसे बेचकर कुछ रुपये दे दें । बेटा वह

“संजीदा” पति चाहिए “खरीदा” हुआ नहीं

पटना विश्वविद्यालय से मनोविज्ञान में स्नातकोत्तर शालिनी झा अपनी माँ को पत्र लिखती हैं, जिसमें  मध्यमवर्गीय परिवार की औसत लडकियाँ प्रेषक की भूमिका में प्रतीत हो रहीं हैं । “संजीदा“ पति चाहिए “खरीदा“ हुआ नहीं ।

बुजुर्गो की अहमियत Importance Of The Elderly

गाँव से लेकर शहर तक हर जगह आज बुजुर्गो की उपेक्षा हो रही है । ये हमें पाल-पोस कर बड़ा करते हैं, और जब हमारी उनको जरूरत होती है, तो उनसे दो पल बात करने का भी हमारे पास समय नहीं होता । हम अपने काम में इतने ही मशगुल हो गए हैं, की भूल

हम प्यार में क्यूँ पड़ते हैं ?

प्यार में पड़ने से ज्यादा powerful और तेज कुछ भी नहीं है । हम सभी कहीं ना कहीं रोमांटिक feelings के बारे में जानते हैं , है ना ? लेकिन actually क्या ऐसा होता है हमारे brain में कि हम feel करने लगते हैं, कि मेरे दोस्त मैं प्यार में पड़ चूका हूँ ? और किस

आधुनिक लोग और उनकी “छि:” वाली सोच !

हम कहते हैं हम मॉडर्न हो रहें हैं, विकास कर रहें हैं, सच में !  क्या आपने शरीर के बारे में जाना, ये जाना कि हमारा शारीरिक तन्त्र ( system ) कैसे काम करता है ?