Category: Special Days / विशेष दिवसों पर विशेषांक

हमें काश तुमसे मुहब्बत न होती !

जिनके ज़िक्र के बगैर हिंदी सिनेमा का इतिहास नहीं लिखा जा सकेगा। प्रेम की शाश्वत प्यास की प्रतीक मरहूम मधुबाला को उनके यौमे पैदाईश (14 फरवरी) पर उनके व्यक्तिगत जीवन पर केंद्रित आलेख । लेखक : पूर्व आई० पी० एस० पदाधिकारी, कवि : ध्रुव गुप्त 

क्योंकि हमारे भीतर का बच्चा कहता है कि “सब मनोरथ बाबा के भरोसे”

महाशिवरात्रि मनाया जा रहा है । गाँव से शहर तक ! यहाँ जो भी लड़के व्रत करते दिख रहे हैं, वो भी हमारे इधर (गाँव) के ही हैं । एकदम ना के बराबर लड़के पटना से हैं जो व्रत कर रहे हैं । हाँ, सबसे बड़ी उपलब्धि ये रही है कि इस शहर के कुछ

​हम क्यों करते हैं सरस्वती की पूजा ?

सरस्वती हिन्दू धर्म की तीन पौराणिक महानायिकाओं या तीन प्रमुख देवियों – लक्ष्मी, दुर्गा और सरस्वती में से एक हैं। लक्ष्मी जहां धन, वैभव और ऐश्वर्य की और दुर्गा शक्ति की देवी है, सरस्वती को विद्या और कलाओं की अधिष्ठात्री देवी का दर्ज़ा हासिल है।

देवी सरस्वती की विशेष पूजा अर्चना कैसे करें – मन्त्र, चालीसा एवं विधि

वसंत ऋतु आते ही प्रकृति का कण-कण खिल उठता है । मानव तो क्या पशु-पक्षी तक उल्लास से भर जाते हैं । हर साल माघ महीने में शुक्ल की पंचमी को विद्या और बुद्धि की देवी मां सरस्वती की उपासना होती है । इस पर्व को आम भाषा में वसंत पंचमी कहा जाता है ।

नव वर्ष, नया संकल्प और नया लक्ष्य

  नव वर्ष, नया संकल्प और नया लक्ष्य और लक्ष्य को पाने के लिए चाहिए दृढसंकल्प | तो क्या है आपका संकल्प वर्ष 2018 के लिए |

26 जुलाई – कारगिल स्मृति दिवस

भारत का वो हिस्सा जो कभी ज्यादा लाइम-लाइट में नहीं रहा था । एक ऐसा जगह जिसे न पूरा भारत जानता था और न कभी अखबारों में सुर्खियों बनकर आया । वो जगह है कारगिल ।

विश्व पर्यावरण दिवस और बारूद की ढ़ेर पर सिगरेट सुलगाता जेनरेशन ।

प्रिय पाठकों प्रस्तुत है विश्वपर्यावरण दिवस पर चर्चित युवा साहित्यकार “विकास वत्सनाभ” जी का आलेख “विश्व पर्यावरण दिवस और बारूद की ढ़ेर पर सिगरेट सुलगाता जेनरेशन“

पीपल की आत्मकथा

प्रिय पाठकों विचार-बिंदु के इस अंक में प्रस्तुत है । विश्व पर्यावरण दिवस पर विशेषांक युवा साहित्यकार सुमित मिश्र ‘गुंजन’ द्वारा रचित लघुकथा “पीपल की आत्मकथा” 

विश्व धूम्रपान निषेध दिवस No Smoking Day in Hindi

हम सभी जानते हैं की धुम्रपान करने से असाध्य रोग होना तय  है । फिर भी करते हैं और आदत बना लेते हैं । चलिए पढ़ते हैं धुम्रपान निषेध के कुछ उद्धरण, शायद कुछ बदलाव हो जाए । No Smoking day in hindi.

14 मई – विश्व मातृ दिवस

विश्व मातृ दिवस विशेषांक में कवि, लेखक व पूर्व आईपीएस अधिकारी “ध्रुव गुप्त” जी का आलेख  “सुख की छाया तू दुख के जंगल में !”
error: Content is protected !!