Warning: Class __PHP_Incomplete_Class has no unserializer in /home/content/n3pnexwpnas02_data02/83/3645783/html/wp-content/object-cache.php on line 894
धर्म-आस्था Archives - Vicharbindu.com Skip to main content

ह्रदय परिवर्तन – प्रेरणात्मक कथा ।

angulimalaप्राचीनकाल की बात है । मगध सम्राज्य में सोनपुर नाम के गाँव की जनता में आतंक छाया हुआ था । अँधेरा होते ही लोग घरों से बाहर निकलने की हिम्मत नहीं जूटा पाते थे, कारण था अंगुलिमाल । अंगुलिमाल एक खूंखार डाकू था जो वहाँ के जंगल में रहता था । जो भी राहगीर.. (more…)

Read More

पद चिन्ह…बुद्ध !

Buddhaएक बार भगवान बुद्ध अपने शिष्यों के साथ भ्रमण पर जा रहे थे । रास्ते में कहीं भी पेड़ नहीं थे । चारों तरफ सिर्फ रेत ही रेत थी । रेत पर चलने के कारण सभी के पैरों के निशान बनते जा रहे थे । (more…)

Read More

सुख शांति के मंत्र – गौतम बुद्ध

Sukhप्रिय पाठकों प्रस्तुत है भगवान् बुद्ध के प्रेरणात्मक विचार । “दुःख के कारण तुम हो, तुम्हारे सुख के कारण तुम हो और दूसरों को दुःख देने से तुम कभी सुख न पा सकोगे । दूसरों को सताने से तुम कभी उत्सव न मना सकोगे ।” (more…)

Read More

दुःख से विमुक्ति के अष्टांगिक मार्ग – BUDDHA

lord-buddhaBuddha ने दुःख से मुक्ति के लिए आठ रस्ते बताये थे, ताकि हमारा जीवन शांतिपूर्ण और आनंदित हो सके । Buddha के मार्ग पर चलने के लिए नित जीवन में हमें आठ बातों को वरण करना होगा… (more…)

Read More

आपके अपने कौन ?

VBCप्रिय पाठकों प्रस्तुत है । श्री कृष्ण वासुदेव के द्वारा दिये गए उपदेश जो हमें हमारे जीवन में एक दिशा प्रदान करता है । इस अंक में आप जानेंगे  एक प्रश्न – आपके अपने कौन ? और “शक्ति” इर्ष्या और क्रोध में नहीं “शांति और सयंम” में है ।
(more…)

Read More

अपना हर पल हर पहर विश्वास से जियें ।

mahabharatप्रिय पाठकों प्रस्तुत है । श्री कृष्ण वासुदेव के उपदेश जिसमें श्री कृष्ण जीवन के सार्थकता के विषय में कहते हैं । अपना हर पल हर पहर विश्वास से जियें ।

जन्म के पश्चात बालक जब पहली बार अपने नेत्र खोलता है । तो उसका मन उत्सुकता से भरा होता है । की ये संसार क्या है ? उसे क्या दिख रहा है । (more…)

Read More

प्रेम में स्वतंत्रा क्यों ?

krishn vbc.comप्रिय पाठकों प्रस्तुत है । श्री कृष्ण वासुदेव के उपदेश जिसमें उन्होंने प्रेम की स्वतंत्रा के विषय में आपना विचार प्रस्तुत करते हैं । प्रेम में स्वतंत्रा क्यों ?

तनिक सोचिये, यदि जल को मुट्ठी में कस के बांधे तो जल कैसे अपना मार्ग बना कर निकल जाता है । इसी तरह धारा की भांति, यही अवस्था हमारे अपनों के साथ भी होती है । (more…)

Read More

विश्वास करना है तो पहले अविश्वास करने के विज्ञान को जानें ।

sri-krishna -VBC.COM प्रिय पाठकों प्रस्तुत है । वासुदेव श्री कृष्ण के प्रेरणात्मक विचार । मनुष्य अपना जीवन विश्वास पर जीता है । परन्तु विश्वास किसका तनिक सोचिये किस पर विश्वास है आपको – महापुरुषों के कही बातों पर,  ग्रंथो में लिखे ज्ञान पर,  माता-पिता की सीख पर  या मेरी कही बातों पर  ये सब विश्वास अपूर्ण हैं ।  (more…)

Read More