http://auditorymemory.com/category/feminism/ Deprecated: Function create_function() is deprecated in http://twainjewellers.com/view-our-work/view-gallery /home/h9fcmg5dm2qc/public_html/vicharbindu.com/wp-includes/http.php on line go to link 311

Deprecated: Function create_function() is deprecated in /home/h9fcmg5dm2qc/public_html/vicharbindu.com/wp-includes/rest-api/class-wp-rest-request.php on line 984

Deprecated: Function create_function() is deprecated in /home/h9fcmg5dm2qc/public_html/vicharbindu.com/wp-includes/rest-api/endpoints/class-wp-rest-posts-controller.php on line 2300

Deprecated: Function create_function() is deprecated in /home/h9fcmg5dm2qc/public_html/vicharbindu.com/wp-includes/rest-api/endpoints/class-wp-rest-posts-controller.php on line 2300

Deprecated: Function create_function() is deprecated in /home/h9fcmg5dm2qc/public_html/vicharbindu.com/wp-includes/rest-api/fields/class-wp-rest-comment-meta-fields.php on line 41
डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के प्रेरणात्मक विचार - Vichar Bindu

डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के प्रेरणात्मक विचार

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन बहुमुखी प्रतिभा के धनी डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन महान दार्शनिक, तत्ववेत्ता, धर्मशास्त्री , शिक्षाशास्त्री, एवं कुशल राजनीतिज्ञ थे । इन्होंने भारत के राष्ट्रपति जैसे पद को सुसोभित किया । इनका जन्म : 5 सितंबर, 1888  एवं अवसान : 17 अप्रैल, 1975 को हुआ ।

डॉ राधाकृष्णन का भारतीय संस्कृति के प्रति आगाध निष्ठा थी । वो भारत को शिक्षा के क्षेत्र में क्षितिज पर ले जाने को निरंतर प्रयासरत रहे । अपने जन्म दिवस को शिक्षक दिवस के रूप में समर्पित करने वाले डॉ राधाकृष्णन के ह्रदय में शिक्षकों के प्रति अगाध श्रद्धा भाव था । प्रतिवर्ष 5 सितम्बर को शिक्षकों के सम्मान के रूप में शिक्षक दिवस सम्पूर्ण भारतवर्ष में मनाया जाता है ।

डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के प्रेरणात्मक विचार  Inspirational Thoughts of Dr. S. Radhakrishnan

 

Quote 1. आध्यात्मिक जीवन भारत की प्रतिभा है ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन 


Quote 2. ज्ञान हमें शक्ति देता है, और प्रेम परिपूर्णता ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन


Quote 3. धर्म के बिना इंसान बिना लगाम के घोड़े की तरह है ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन


Quote 4. किताब पढ़ना हमें चिंतन और सच्चे आनंद की आदत देता है ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन 


Quote 5. धन, शक्ति और दक्षता केवल जीवन के साधन हैं खुद जीवन नहीं ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन


Quote 6. मृत्यु कभी भी एक अंत या बाधा नहीं है बल्कि एक नए कदम की शुरुआत है ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन


Quote 7. पवित्र आत्मा वाले लोग इतिहास के बाहर खड़े हो कर भी इतिहास रच देते हैं ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन


Quote 8. हर्ष और आनंद से परिपूर्ण जीवन केवल ज्ञान और विज्ञान के आधार पर  ही संभव है ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन


Quote 9. जीवन को एक बुराई के रूप में देखना और दुनिया को एक भ्रम मानना तुच्छ सोच है ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन


Quote 10. किताबें वह माध्यम है जिनके द्वारा हम दो संस्कृतियों के बीच पुल का निर्माण कर सकते है ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन


Quote 11. मानव की प्रकृति स्वभाविक रूप से अच्छी है और ज्ञान के फ़ैलाने से सभी बुराइयों का अंत हो जायेगा ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन


Quote 12. शांति राजनीतिक या आर्थिक बदलाव से नहीं आ सकते बल्कि मानवीय स्वभाव में बदलाव से आ सकती है ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन


Quote 13. हमें मानवता की उन नैतिक जड़ों को जरुर याद करना चाहिए जिनसे अच्छी व्यवस्था और स्वतंत्रता दोनों बनी रहे ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन


Quote 14. ऐसा बोला जाता है कि एक साहित्यिक प्रतिभा, सबको समान दिखती है पर उसके समान कोई नहीं दिखता है ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन


Quote 15. आयु या युवा समय का मापदंड नहीं है । हम जितना खुद को महसूस करते हैं हम उतने ही युवा या उतने ही बुजुर्ग हैं ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन


Quote 16. लोकतंत्र कुछ विशेषाधिकार रखने वाले व्यक्तियों का ही नहीं बल्कि हर व्यक्ति की आध्यात्मिक संभावनाओं में एक विश्वास है ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन


Quote 17. मानव का दानव बनना उसकी हार है । मानव का महामानव बनना उसका चमत्कार है । मनुष्य का मानव बनना उसकी जीत है ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन


Quote 18. राष्ट्र, व्यक्तियों की तरह है, उनका निर्माण केवल इससे नहीं होता है कि उन्होंने क्या हासिल किया बल्कि इससे होता है कि उन्होंने क्या त्याग किया है ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन


Quote 19. हमारे सारे विश्व संगठन गलत साबित हो जायेंगे यदि वे इस सत्य से प्रेरित नहीं होंगे कि प्यार ईर्ष्या से ज्यादा मजबूत है ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन


Quote 20. मेरा जन्मदिन मनाने की बजाय अगर 5 सितम्बर शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जायेगा तो मैं अपने आप को गौरवान्वित अनुभव करूँगा ।

– डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन

डॉ राधाकृष्णन

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *