महाकवि विद्यापति ठाकुर ।

मैथली कवि कोकिल विद्यापति ठाकुर का जन्म 1360 ई० में बिहार के मधुबनी जिला के बिसपी ग्राम में हुआ । श्रृंगार और भक्ति रस के कविता के बीच संतुलन स्थापित करने वाले विद्यापति एक महान रचनाकार थे । इन्हें अनेक उपाधि प्राप्त है । जैसे –

चरित्रहीन कौन …?

प्रिय पाठकों प्रस्तुत है, गौतम बुद्ध से संबंधित एक प्रेरणात्मक कथा । जिसके माध्यम से पुरुष प्रधान समाज के ऊपर कटाक्ष किया गया है ।  मुझे विश्वास है की यह कथा आपको एक बार जरूर सामाजिक समस्याओं पर विचार करने को मजबूर करेगा । आगे ….

मलाला युसुफ़जई का प्रेरणात्मक विचार …

प्रिय पाठकों प्रस्तुत है, मलाला युसुफ़जई का प्रेरणात्मक विचारों का संग्रह , मलाला का जन्म 12 जुलाई 1997 को हुआ और 12 जुलाई 2013 को सबसे कम उम्र 17 वर्ष की अवस्था में नोवेल शांति पुरस्कार विजेता बनी । आयिए जाने इनके प्रेरणात्मक विचार ……

थामस जेफरसन महोदय के प्रेरणात्मक विचार ….

  थामस जेफरसन / Thomas Jefferson अमेरिकी ‘स्वतंत्रता की घोषणा’ के मुख्य लेखक थे । जेफ़रसन एक राजनितिक दार्शनिक व संयुक्त राष्ट्र अमेरिका के तीसरे राष्ट्रपति थे । इनका जन्म 13 अप्रेल 1743 एवं अवसान 4 जुलाई 1826 को हुआ था । आईये जाने ….

आचार्य चाणक्य के 100 प्रेरणात्मक विचार ..

प्रिय पाठक वृंद यह लेख भारतवर्ष के महान आचार्य चाणक्य …से  संबंधित है, चाणक्य का पूरा नाम विष्णुगुप्त कौटिल्य था । इन्होंने  विदेशी आक्रमण से त्रस्त टूटे-फूटे और बिखरे हिंदुस्तान को एकता के सूत्र में गूँथ कर उसे एक दृढ़ राजनितिक आधार प्रदान किया । आगे……

आर्थर रिमबाउड / Arthur Rimbaud के प्रेरणात्मक विचार

प्रिय पाठकों प्रस्तुत है, आर्थर रिमबाउड / Arthur Rimbaud के प्रेरणात्मक विचार । ये फ्रेंच Poet थे । इनका जन्म 20 अक्टूबर 1854 को हुआ और मृत्यु 10 नबम्बर 1891को हुई । छोटी उम्र में उन्होंने अपने नाम से प्रसिद्धि हासिल की ।

शिक्षा के अलख से नोबेल शांति पुरस्कार तक का सफ़र……..

प्रिय पाठकों प्रस्तुत है, मलाला युसुफ़जई का संछिप्त जीवन परिचय, मलाला का जन्म 12 जुलाई 1997 को हुआ और 12 जुलाई 2013 को सबसे कम उम्र 17 वर्ष की अवस्था में नोवेल शांति पुरस्कार विजेता बनी । आयिए जाने शिक्षा के अलख से नोवेल शांति पुरस्कार तक का सफ़र…………

वसंत पंचमी

प्रिय पाठकों वसंत का आगमन हो गया है, सरस्वती पूजा का आगमन एवं होली का दस्तक सदिओं से युवाओं को उत्साहित करता आ रहा है । तो आईये जाने वसंत ऋतू एवं माँ सरस्वती पूजन के महात्म्य को ……..

महान गणितज्ञ पाईथागोरस महोदय के प्रेरणात्मक विचार …….

प्रिय पाठकों प्रस्तुत है , एक महान गणितज्ञ , रहस्यवादी एवं वैज्ञानिक जिन्होंने ज्यमिति में एक प्रमेय की स्थपना की   ( p² + b² = h² ) जिसे पाईथागोरस प्रमेय कहा जाता है । के खोजकर्ता पाईथागोरस महोदय के प्रेरणात्मक विचार ……..  “ क्रोध की शरुआत गलती से होती है और अंत प्रायश्चित से ”  – पाईथागोरस

आहत होती भावनाएँ …!

प्रिय पाठकों यह लेख एक बच्ची और उसके परिवार से संबंधित है , यह एक हक़ीकत घटना है , कोलकाता के साल्ट लेक क्षेत्र के एक अंग्रेजी मीडियम स्कूल की , जिसमें परीक्षा में ‘माय फैमली’ शीर्षक पर एक निबंध लिखना था  । 10 साल की पांचवी कक्षा की एक बच्ची ने अपने ही परिवार