Skip to main content

ससुराल भी अपनी घर जैसी…..

familyमित्रों, आज-कल अधिकांश घरों में सास और बहु के बीच मतभेद हो जाता है । बहु के घर आने के कुछ दिन बाद से ही मतभेद बढ़ना शुरू हो जाता है, लेकिन जिस छोट-छोटी बातों से परिवार में मतभेद बढ़ता है । उसे नजरंदाज कर वो समय हम एक दुसरे को समझने में लगायें तो हमारा परिवार टूटने से बच सकता है । तो आइये इस प्रसंग के माध्यम से जाने सकारात्मक नजरिया अपनाने का राज !       (more…)

Read More

लौकी, कई गुणों का ख़जाना

loki vegetableमित्रों लौकी एक ऐसा सब्जी है जिसमें कई गुणों का ख़जाना है । यह विभिन्न रोगों में फायदेमंद है जैसे की  गैस, कब्ज और खांसी की समस्या, किडनी डिसीज, टीबी, हार्ट डिसीज, सीने में जलन, मिर्गी, हैजा,  डायरिया, आदि रोगों में बहूत ही फयदेमन्द है । (more…)

Read More

हेनरी फ़ोर्ड महोदय / Henry Ford

Henry Fordमित्रों फोर्ड मोटर के मालिक हेनरी फोर्ड दुनिया के चुनिंदा धनी व्यक्तियों में से एक थे। एक बार एक भारतीय उद्योगपति जो भारत में मोटर कारखाना लगाना चाहते थे, उससे पहले फोर्ड से सलाह लेने के लिए अमेरिका गए । उन्होंने अमेरिका पहुंच कर हेनरी फोर्ड से मिलने का समय मांगा ।   (more…)

Read More

अमरुद, कई गुणों का ख़जाना

Guavaअमरुद को सर्दियों के मौसम में बहूत सारे गुणों का ख़जाना माना जाता है । इसे खाने से रक्त में शुगर का स्तर काम होता है । अमरुद में विटामिन सी होती है यह इम्मूनिटी बढ़ाने और सर्दियों में बीमारियों से लड़ने में मददगार है । (more…)

Read More

परिवर्तन जरूरी है….

changeमित्रों हमारे जीवन में बदलाव होती रहनी चाहिए और समय परिस्थिति के अनुसार हमें अपने में परिवर्तन करते रहना चाहिए । हमें हमेशा यह स्मरण रहना चाहिये कि हमारे जीवन में आने वाली सारी परस्थितियाँ हमारे ही अनुकूल हो यह आवश्यक नहीं है । इस प्रसंग के माध्यम से जाने की बदलाव क्यों आवश्यक है । (more…)

Read More

असफ़लता की ताकत

wlter benjaminमित्रों वाल्टर बेंजामिन एक जर्मनी यहुद्दी दार्शनिक और सांस्कृतिक आलोचक थे इनका जन्म 15  जुलाई 1892 को हुआ , इन्होंने एतिहासिक भौतिकवाद के लिए प्रभावशाली योगदान दिया । इन्होंने 48 वर्ष की अवस्था में 26 सितम्बर 1940 को आत्महत्या कर ली मरणोपरांत इनकी कृतियों ने यश जीता । असफ़लता की ताकत को इन्होंने इस प्रकार समझाया है ………. (more…)

Read More

विदुषी महिला

choiceएक मुसाफ़िर ने सड़क के किनारे बैठी एक महिला से पूछा, आगे जो शहर आने वाला है, उस शहर के लोग कैसे हैं ? ‘तुम जहाँ से आ रहे हो, वहां के लोग कैसे थे ?’  –  महिला ने पूछा । मुसाफ़िर ने जबाब दिया – ‘बहूत बुरे लोग थे । स्वार्थी, भरोसेमंद भी नही थे ।’ (more…)

Read More

रवीन्द्रनाथ टैगोर के प्रेरणात्मक विचार

Rabindranath tagoreमित्रों प्रस्तुत है,  विश्वविख्यात साहित्यकार, चित्रकार, दार्शनिक, शिक्षाशास्त्री रवीन्द्रनाथ टैगोर के विचार जो हमारे देश के एक गोरवशाली वक्तित्व थें, इनका जन्म 7 मई सन 1861 को कोलकाता में हुआ । इन्हें नोबल पुरस्कार के प्रथम भारतीय होने का गोरव प्राप्त है । इनकी रचना गीतांजली जिसमें धर्म, दर्शन, एवं विश्व मानवता के अनूठे संदेश से अनुप्रमाणित है, पर  1913  को साहित्य का नोबेल पुरस्कार मिला  । (more…)

Read More

सकारात्मक सोच

positive thoughtमित्रों , सोच ही हमारी दिशा और दशा तय करती है ।  गर्मी की छुट्टी में मैं अपने फुआ के यहाँ गया हुआ था । उस समय दुसरे शहर से मेरी फुआ की same age  की एक relative  भी आई थी । एक-दो दिन तो सब ठीक रहा, तीसरे दिन मौका देख कर उन्होंने मेरे सामने ही…..

(more…)

Read More

समय-समय पर अपना आकलन करते रहें…

Teach मित्रों जीवन में ऐसी बहूत सारी परिस्थितियां आती हैं, जब हम खुद को लेकर अनिश्चित हो जाते हैं । इस अनिश्चितता से निकलने के लिए इन बातों को ध्यान में रखिये –

(more…)

Read More