किया साहस खुली तक़दीर

प्रिय पाठकों प्रस्तुत एक साहसिक प्रसंग जो ब्रिटिश शासन के समय की है । बिहार के दियारा गांव में अधिकांश लोग जाना पसंद नहीं करते थे, क्योंकि वहां जाने वालों को अक्सर बुखार जकड़ लेता था ।

Lyengar योग के गुरु B.K.S Lyengar

मित्रों  Lyengar योग के गुरु   B.K.S Lyengar  (वेल्लूर कृष्णमचारी सुन्दराज अयंगार)  का जन्म कर्नाटक के वेल्लूर में 14 दिसम्बर 1918 को हुआ । अयंगार भारतवर्ष के एक महान योग गुरु थे जिन्होंने अयंगार योग की स्थापना की थी । 1975 में इन्होंने महाराष्ट्र में योगविद्या नाम से अपना संस्थान शुरू किया । और………

मकड़ी से मिली प्रेरणा….

प्रिय पाठकों प्रस्तुत है, स्काट्लेंड के राजा ब्रुश एवं एक मकड़ी से संबंधित प्रेरणात्मक प्रसंग  …… जब राजा ब्रुश अपने शत्रुओं से युद्ध में हार गये । उनके बहूत सारे सैनिक मारे गए और बंदी बना लिए गए । उनके महल पर शत्रु सेना का कब्ज़ा हो गया । वह अपने परिवार से भी बिछड़ गये ।

प्रगति, शांति में ही संभव है…..

प्रिय पाठकों,  गुरुत्वाकर्षण की खोज करने वाले ब्रिटेन के महान वेज्ञानिक सर आइजेक न्यूटन बहूत ही शांति प्रिय वक्ति थे । बड़ी से बड़ी परेशानी में भी वे अपना धैर्य नहीं खोते थे हर परिस्थिति का सामना शांति एवं धैर्य से करते थे । इनके इस स्वभाव को आप इस प्रसंग से जानिए ……

महान दार्शनिक सुकरात

मित्रों  सुकरात ग्रीस के एक बहूत बड़े चिन्तक व दार्शनिक थे । वे तर्कशास्त्र के प्रणेता थे । सही मायने में वे  बड़े राजनीतिज्ञ  थे । इनका  जन्म  470 BC में एथेंस में हुआ था । 399 BC में उन्हें मृत्यु दंड दिया गया और वे संसार को अंतिम विदा कह गये । उन्होंने लोगो को……….

महान दार्शनिक अरस्तु महोदय ..

प्रिय पाठकों प्रस्तुत है, महान दार्शनिक Aristotle/अरस्तु महोदय का प्रेरणात्मक विचार , इनका जन्म 384 BC और अवसान 322 BC में हुआ था ये ग्रीक साम्राज्य के रहने वाले थे, ये प्लेटो के शिष्य थे, सिकंदर के गुरु एवं पश्चिमी दर्शनशास्त्र के महान व्यक्ति थे । इनके अनुसार……..

सर्दी की बीमारियों से बचने के , कुछ साधारण नुस्खे…

हम  सभी जानते है की सर्दी के महीनों में सबसे ज़्यादा संक्रमण वायरस और बैक्टीरिया से होता है, क्योंकि ये मौसम उनके संवहन के लिए सबसे अनुकूल होता है । इस मौसम में डॉक्टर्स के यहां भी ज़्यादातर मरीज संक्रमित बीमारियों की वजह से पहुंचते हैं ।

सुविख्यात वैज्ञानिक Thomas Edison

प्रिय पाठकों,  सुविख्यात वैज्ञानिक  Thomas Edison का जन्म 11 फ़रवरी 1847, अवसान 18 अक्टूबर 1931 , 84 वर्ष की अवस्था में हुआ,  मित्रों थांमस अल्वा एडीसन अत्यधिक परिश्रमी और धेर्यशाली थे । वे एक लक्ष्य रखकर जिस प्रयोग को आरंभ करते, उसे अंतिम..

इर्ष्या धीमा जहर है ….

इर्ष्या ‘जलन’ एवं इस प्रकार का व्यवहार slow poison  का काम करता हैं ।, यदि आपका कोई शत्रु आपसे इर्ष्या कर रहा है, तो आप निश्चिंत हो जाएं । वह स्वयं अपने आप को मिटा रहा है । यदि आप भी इस दोष के शिकार हैं । तो इसे..तुरंत मिटा दीजिये, क्योंकि इर्ष्या रखने से

सादगी के प्रतिमूर्ति थे आइन्स्टीन

 मित्रों, दुनिया के महान वैज्ञानिक में से एक थे अल्बर्ट आइंस्टीन जिनका जन्म – 14 March 1879 और अवसान – 18 April 1955 हुआ मित्रों इस लेख में   इनके जीवन के घटनाओं का जिक्र है, की इतने बड़े वैज्ञानिक होने के वावजूद इन्होंने अपनी सादगी को बनाये रखा | महान वैज्ञानिक अलबर्ट आइन्स्टीन ने जब जर्मनी
error: Content is protected !!