ज्ञान की शालीनता

प्रिय पाठकों प्रस्तुत है । स्वामी विवेकानंद जी के द्वारा दी गई प्रेरणात्मक विचार । इस लेख में स्वामीजी के द्वारा लोगो को अज्ञानता रूपी अहंकार के वास्तविकता को समझाया गया है । …….

अदरक के फ़ायदे

प्रिय पाठकों प्रस्तुत है । हमारे रसोई में प्रयोग होने वाले “अदरक/Ginger”  ( वानस्पतिक नाम: जिंजिबर ऑफ़िसिनेल / Zingier officinale ) के विषय में यह लेख । यह हमारे सेहत के लिए वरदान है । यह  इसमें बहूत सारे पोषक तत्व मौजूद होते है जेसे विटामिन, आयरन, आयोडीन, कैल्शियम इत्यादि ओषधि के रूप में इसका प्रयोग सर्वविदित

संन्यासी कौन ?

प्रिय पाठकों,  प्रस्तुत है । यूग पुरुष स्वामी विवेकानंद से संबंधित एक प्रसंग जिसे पढने के बाद आप स्वत: समझ जायेंगे की वास्तव में सन्यासी कौन होते है । एक बार बंगाल में भीषण अकाल पड़ा था । चुकी स्वामी जी में मानवीय संवेदना कूट-कूट कर भरी थी, वो बहूत दुखित थे । इसलिए  स्वामी

जीवन का सदुपयोग……..

प्रिय पाठकों हमारे ज़िन्दगी  में कभी – कभी ऐसा वक्त आता है, जब हम अपने ही घर की समस्या से तंग आ कर अपने ही जीवन को व्यर्थ समझने लगते है । मित्रों प्रस्तुत है एक लघु कथा – महर्षि  रमण के आश्रम के समीप ही एक शिक्षक का आवास था । उनके घर लड़ाई-झगड़े होते

HAPPY NEW YEAR / नव वर्ष पर विशेषांक, विचारबिंदु….

सर्वप्रथम आप सभी पाठकों को नववर्ष की मंगलमय शुभकामनाएं ! हम सभी समय के चक्र के साथ नववर्ष में प्रस्थान कर गए हैं । हमें नववर्ष के आगमन के इस पल में अपने विषय पर चिंतन करने की आवश्यकता है, हमें मानवीय मूल्यों के आधारभूत विषयों, अपने कर्तव्यों एवं अपने जीवनशैली से संबंधित विषयों पर आत्ममंथन

आंवला के अनेकों फ़ायदे

आयुर्वेद में अपना ख़ास स्थान रखने वाला फल “आंवला” जिसे प्रकृति ने हमें वरदान के रूप में दिया है । विभिन्न व्यंजनों के रूप में हमलोग इसका प्रयोग करते है, जैसे मुरब्बा, मिठाई, जैम, पाउडर, अचार, जूस आदि हमारे स्वस्थ के लिए बहूत ही लाभकारी होते है । सर्दी के मौसम में इसका प्रयोग बहूत

कवि सुमित्रानंदन पंथ

हिंदी साहित्य के छायावाद, रहस्यवाद एवं प्रगतिवादी कवि “सुमित्रानंदन पंथ” का जन्म 20 मई 1900, एवं अवसान 28 दिसम्बर 1977 को हो गया । हिंदी साहित्य की अनवरत सेवा के लिए इन्हें 1961 में पद्मभूषण 1968 में ज्ञानपीठ, साहित्य अकादमी एवं सोवियत लैंड नेहरु पुरुस्कार जैसे उच्च श्रेणी के सम्मानों से अलंकृत किया गया..

रतन टाटा एक सफ़ल उद्योगपति

उधोग एवं व्यपार के क्षेत्र में कीर्ति पताका फहराने वाले भारतीय उधोगपति  “टाटा समुह” के अध्यक्ष “रतन नवल टाटा” का जन्म 28 दिसम्बर 1937 को मुम्बई में हुआ । इन्हें उधोग एवं व्यपार के क्षेत्र में सन 2000 में पद्म भूषण तथा सन 2008 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया ।

शायर-ए-आज़म मिर्ज़ा ग़ालिब

शायर-ए-आज़म मिर्ज़ा ग़ालिब का जन्म 27 दिसंबर 1776 को आगरा में हुआ था । इनका पूरा नाम मिर्ज़ा असद-उल्लाह बेग ख़ां उर्फ “ग़ालिब” था । ये उर्दू एवं फारसी भाषा के महान शायर थे, ग़ालिब मुग़ल काल के आख़िरी शासक बहादुर शाह ज़फ़र के दरबारी कवि भी रहे थे । 1850 में बहादुर शाह जफ़र
error: Content is protected !!