धैर्य ही सफलता की कुंजी है।


Bamboo-forest

चीन में एक विशेष प्रकार की बांस (bamboo) की प्रजाति पायी जाती है । उसका बीज जमीन में बोया जाता है । उस बीज़ को अंकुरित होने में लगभग 6 महीने का समय लग जाता है ।

और जब एक बार वो अंकुरित हो जाता है उस दिन से अगले 90 दिन में वो 90 फिट का बांस बन जाता है । मैं सोच रहा था की बांस का बीज से विशालकाय बनने का समय क्या लूँ । 90 दिन या फिर 180+90=270 दिन | कभी कभी हम मान लेते है की शांति है तो काम रुक गया होगा ।
गलत !!

प्रकृति अपने हिसाब से काम को सतत और जीवंत रखती है । और उचित समय पे उसका एहसास हम सब को दिलाती है । हमें भी निरंतरता और धैर्यशीलता में विश्वाश रखना होगा । तभी जाके मुश्किल से मुश्किल लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है । अपने आप को टूटने से बचाना होगा । समय आएगा जब आपके लगन और धैर्य का पारिश्रमिक मिलेगा । तब जो सफलता का रसास्वादन आप करेंगे वही मिठास सही अर्थों में आपके जीवन को आनन्दित कर देगा ।


 

विलियम शकेस्पीयर कहते हैं –   “वे कितने निर्धन हैं जिनके पास धैर्य नहीं है”  

थॉमस ए केम्पिस कहते हैं – “सभी व्यक्ति धैर्य की सराहना करते हैं लेकिन कुछ ही इसको अभ्यास में लाने को तैयार रहते हैं”

Previous आधुनिक लोग और उनकी "छि:" वाली सोच !
Next क्या है यज्ञोपवीत संस्कार ?

No Comment

Leave a reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *