Warning: Class __PHP_Incomplete_Class has no unserializer in /home/content/n3pnexwpnas02_data02/83/3645783/html/wp-content/object-cache.php on line 894
प्लेटो महोदय के प्रेरणात्मक विचार - Vicharbindu.com Skip to main content

प्लेटो महोदय के प्रेरणात्मक विचार

platoप्रिय मित्रों प्रस्तुत है, यूनान के प्रसिद्ध दार्शनिक प्लेटो महोदय के प्रेरणात्मक विचार । प्लेटो महोदय महान दार्शनिक सुकरात के शिष्य थे । एवं अरस्तु के गरु । इन तीनों दार्शनिकों ने पश्चिमी संस्कृति का धार्मिक आधार तैयार किया ।   प्रेम एक गंभीर मानसिक रोग है।”प्लेटो 

प्लेटो महोदय के प्रेरणात्मक विचार 
  1. तिन चीजों से बनता है मनुष्य का व्यवहार – चाहत, भावनाएँ और जानकारी ।

  2. मनुष्य द्वारा खुद पर काबू करना उसकी सबसे ज्यदा महत्वपूर्ण जीत होती है ।

  3. कोई भी कानून आपकी समझदारी से ज्यादा अहमियत नहीं रखता है ।

  4. किसी अच्छे कार्य को बार-बार करने से किसी का भी कोई नुकसान नहीं होता है ।

  5. काम की शुरुआत करना ही उसका सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है ।

  6. सोचने का मतलब है आपकी आत्मा खुद से बातचीत कर रही है ।

  7. जिस समाज में कोई अमीर या गरीब नहीं होता है, वहाँ लोगो में सिर्फ अच्छे संस्कार पाए जाते हैं ।

  8. कोई अच्छा निर्णय जानकारियों पर निर्भर करता है । आकड़ो या संख्या पर नहीं ।

  9. अच्छे कर्म स्वयं को शक्ति देते हैं और दूसरों को अच्छे कर्म करने की प्रेरणा देते हैं ।

  10. कोई भी वक्ति किसी ऐसे वक्ति का दोस्त नहीं हो सकता जिससे उसे प्यार न मिले ।

  11. कम चीजों के साथ अच्छा जीवन जीना सबसे बड़ी दौलत है ।

  12. देश इंसानों की तरह होते हैं, उनका विकास मानवीय चरित्र जैसे होता है।

  13. दो ऐसे चीज़े हैं जिनके बारे में मनुष्य को गुस्सा या खफ़ा नहीं होना चाहिए । पहली, वह किन लोगो की मदद कर सकता है । दूसरा वह किन लोगो की मदद नहीं कर सकता है ।

  14. समझदार व्यक्ति इसलिए बोलता है क्योंकि उसके पास बोलने के लिए या दूसरों से बाँटने के लिए कई अच्छी बातें होती हैं, लेकिन एक बेवकूफ़ व्यक्ति इस लिए बोलता है क्योंकि उसे कुछ न कुछ बोलना होता है ।

  15. जो वक्ति अच्छा काम करना नहीं जानता है, वह दूसरों से अच्छा काम करने का हुनर भी नही रख सकता है ।

  16. छोटी कक्षा में अच्छी ट्रेनिंग मिलना ही पढाई-लिखाई का सब्से अहम हिस्सा होता है ।

  17. अगर कोई व्यक्ति पढना पसंद नहीं करता है तो वह जिन्दगी के अंतिम दिनों में बिलकुल अकेला दिखाई देता है ।

  18. चमचमाती हुई स्वर्ण से जड़ित अनुपयोगी ढाल से गोबर की उपायोगी टोकरी अधिक सुंदर है।

  19. जो व्यक्ति दूसरों पर राज करना चाहता है वह कभी राज नहीं कर सकता । वैसे ही जेसे कोई व्यक्ति किसी को पढाने का दवाव महसूस करके अच्छा शिक्षक नहीं बन सकता है ।

  20. मनुष्य में ऐसी ताकत हैं जो आपको आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित कर सकती हैं या आपके पंख काट कर आगे बढ़ने के रास्ते बंद भी कर सकती हैं । ये आप पर निर्भर करता है कि आप कौन सी ताकत अपनाते हैं ।

  21. तीन किस्म के लोग होते हैं – पहला जो बुद्धिमान बनना चाहता है । दूसरा जिसे अपनी प्रतिस्ठा से प्यार है और तीसरा जो ज़िन्दगी में कुछ हासिल करना चाहता है ।  

VICHR BINDU

Vicharbindu is a platform where I can help the whole indian society for upliftment of our country.

7 thoughts on “प्लेटो महोदय के प्रेरणात्मक विचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *