जानिए हम कितने सहिष्णु हैं ?

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

satyam kumar jhaहम सब पूरे खलिहर हैं । एक बार और ये बात साबित कर दिये । पता नहीं क्यों हम एक सड़क छाप मुद्दे को राष्ट्रीय विपत्ति बनाने पर तूल जाते हैं । फेसबूक पे दो खेमा है…और हर खेमा किसी न किसी बयान के लिए काग दृष्टि लगाए रहते हैं, मुद्दा आया नहीं कि लगे गिद्ध की तरह नोचने । इस लाइक और कॉमेंट से अपना स्टेट्स मापने वाले हर मुद्दे पर विशेषज्ञ बन जाते हैं । जितना here सोनू  source url निगम  के बयान से लोगों ने बात न जानी उतना फेसबूक पर उल्टियाँ करके हमने बदबू फैला दी । आखिर ये उनका निजी बयान था उनकी सोच थी हमको क्या लेना था इससे लेकिन नहीं हर बात में टांग अड़ाना हमारी फितरत है । आखिर वो कोई सत्ता नहीं न ही कानून विशेषज्ञ जिसके बोल देने से कानून बन जाएगा, लेकिन हम हर बात पे तपाक से राय बना लेते हैं ।

sonu-nigam
http://sharepoint-insight.com/…edit-source-in-share Sonu Nigam is an Indian playback singer

वैसे मैं बता दूँ कि मेरा बचपन समस्तीपुर के स्टेशन के ठीक बगल में रेलवे क्वाटर में बीती है जहां 24 घंटे बेहिसाब शोर रहता था, लेकिन मुझे कोई दिक्कत न हुई कारण मैं अभ्यस्त हो गया था । वहीं मेरे गाँव से कोई आता तो कहता कि कैसे रहते हो हम तो एक पल भी न रह पाये । मैं उससे कोई विवाद नहीं करता बस मुस्कुरा देता कहता हमारे पास और कोई रास्ता नहीं है । यहाँ के बुद्धजीवी भी ऐसे मामलों में फेसबूक पर लिखकर अपनी ज्ञानता का परिचय दे देते हैं । आखिर स्वतन्त्रता के लिए मशाल लिए लोग भी वही कर रहे है जो कथित देशभक्त करते है । चाहे नासिर सर हो या ओमपुरी सर उनके भी बयान के साथ ऐसे ही लोगों ने हुटिंग की । आखिर आप खुद को कहाँ अलग कर पाये इस बात से । सोचिए उसे कैसा लग रहा होगा जिसने ये बयान दिया । अभी गांधी जी के 100 सत्याग्रह पर इतना लिख रहे हैं लेकिन व्यवहार में कितना है आज जान लिया कि हम कितने सहिष्णु हैं । अपने विचार के विपरीत एक बयान तक नहीं सुन सकते ।

खैर ये ड्रामा खत्म हुआ ! फिर किसी न किसी का बयान आएगा जिसके साथ सोशल मीडिया पर दिनभर खेलना है तब तक के लिए पढ़ते रहिये vichar bindu विचारों का ओवरडोज़ !

vicharbindu_logo


लेखक : सत्यम कुमार झा
email : satyam.mbt@gmail.com
https://www.twitter.com/writersatyam
https://www.facebook.com/writersatyam

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!