Posts in category

साहित्य


nagarjun-poems-in-hindi

प्रस्तुत है, वैद्यनाथ मिश्र “यात्री” यानी बाबा नागार्जुन की कविताएँ बादल को घिरते देखा है,  कालिदास! सच-सच बतलाना !, बांकी बच गया अंडा, इन घुच्ची आँखों में, अकाल और उसके बाद ।

0 73
Maithili Sharan Gupt poem in hindi

कवि मैथिलीशरण गुप्त की कुछ प्रेरणात्मक कविताएँ/ कालजयी रचना जो हमें प्रेरणा देता है । आईये पढ़ें कविता ( “नर हो, न निराश करो मन को” एवं “मनुष्यता” ) 

0 255
mothers day

विश्व मातृ दिवस विशेषांक में कवि, लेखक व पूर्व आईपीएस अधिकारी “ध्रुव गुप्त” जी का आलेख  “सुख की छाया तू दुख के जंगल में !”

1 36
buddha image

बुद्ध पूर्णिमा था और संयोग से कुशीनगर से गुजर रहे थे । इसी दिन गौतम बुद्ध कुशीनगर में महानिर्वाण प्राप्त किये थे । वहाँ मेला लगा हुआ था पर फिर भी हर जगह शांति थी । ज्यादा देर रहना नहीं हुआ पर आगे के पूरे रास्ते बुद्ध के बारे में सोचता आया.

0 16
indo-vs-pak

लगभग पच्चीस साल पहले किसी पत्रिका में पढ़ा था, एक बहुत ही शक्तिशाली, बाहुबली योद्धा था । उसके पड़ोस में एक दुबला-पतला, फुर्तीला आदमी रहता था । दोनों के बीच

1 7

विचारों के ओवरडोज़ में प्रस्तुत है प्रवीण जी का आलेख “मानव की सोच” पढ़िये तो सही ! सच में… मजा आ जायेगा ।

1 35
thinking-of-modern-people

हम कहते हैं हम मॉडर्न हो रहें हैं, विकास कर रहें हैं, सच में !  क्या आपने शरीर के बारे में जाना, ये जाना कि हमारा शारीरिक तन्त्र ( system ) कैसे काम करता है ?

0 7
hard-labour

देखिये मई महीने की पहली तारीख़ को मजदूर दिवस हम-आप मनाते आ रहें है और मनाएंगे भी आप मजदूर हैं की मजबूर वो तो हम नहीं जानते परन्तु ये जो हम लिख रहें हैं वो मजबूरी में लिखा गया हकीकत है ..पढियेगा तो अपच नहीं करेगा !

0 14
vikash vatsnabh

समय की करवटों ने बहुत कुछ बदला है । लड़के अब ड्यूड और लड़कियाँ बेब्स कही जाने लगीं हैं । पॉकेट मनी सीसीडी और पब को नशीब हो रहा है । खतों की सिसकियाँ रिंगटोन में बजने लगी है । हर जगह..

2 22
Avinash

दोपहर बीत चुकी है । फागुन की ठंडी हवाओं ने कब करवट ली और चैत्र मास के लूँ के थपेड़ों ने मन को विचलित करना शुरू कर दिया यह पता ही नहीं चला । दलान से…

0 13