Posts in category

कहानी


Baba Nagarjun vicharbindu

एक कवि जो रमता जोगी थे । निठट्ठ गंवार, स्थानीय येट ग्लोबल थे । हर जगह घुमें, घाट-घाट पहुंचे, सबसे मिले-सबसे जुड़े लेकिन फिर भी अपना निजी गुण नहीं छोड़ा । सच बोलने की आदत नहीं गई, सरकार सिस्टम ने जब भी अनाचार अपनाया बाबा खुलकर विरोध किए ।

0 70
cheerful-people

आप जब सुबह उठते हैं तो सबसे ज्यादा अमूल्य क्या पाते हैं. क्या यह सोच कर खुश होते हैं कि आप फिर सुबह का स्वागत करने को तैयार हैं, या फिर सांस लेने पर खुश होते हैं, या फिर कुछ सीखने की इच्छा रखते हैं, या प्रेम के लिए.

0 64
a-tale-of-two-cities-in-hindi

एक मुसाफिर ने सड़क के किनारे बैठी महिला से पूछा, आगे जो शहर आने वाला है, उस शहर के लोग कैसे हैं ? ‘तूम जहाँ से आ रहे हो वहाँ के लोग कैसे थे ?’ – महिला ने पूछा.

0 16
the-te vicharbindu

जीवन जीने के प्रयोजन में हम अपने विचारों को किस दिशा में ले जाएँ, हमारा ध्यान कहाँ किन बातों पर होना चाहिए जिससे हम अपने जीवन में समृद्धि की ऊंचाई को छु सकें !

0 37
the-real-hero-indian-army (1)

“2009 में उसने मुझे प्रपोज़ किया था. 2011 में हमारी शादी हुई, मैं पुणे आ गयी. दो साल बाद नैना का जन्म हुआ. उसे लम्बे समय तक काम के सिलसिले में बाहर रहना पड़ता था. हमारी बच्ची छोटी थी, इसलिए हमारे परिवारों ने कहा कि मैं बेंगलुरु आ जाऊं. मैंने फिर भी वहीं रहना चुना …

1 35
gandhi ji

यह घटना उस समय की है जब स्वतंत्रता आंदोलन ज़ोर पकड़ चुका था । गांधी जी घूमकर या सभा बुलाकर लोगों को स्वराज और अहिंसा का संदेश देते थे । एक बार उन्हें एक सभा मे उपस्थित होने का आमंत्रण मिला ।

0 227
Mirza Ghalib vicharbindu

उर्दू के सर्वकालिक महान शायर मिर्ज़ा ग़ालिब की पुण्यतिथि पर, उनकी कुछ जीवंत रचनाएँ । इनका जन्म – 27 दिसंबर, 1796 ( आगरा, उत्तर प्रदेश ) एवं अवसान – 15 फरवरी, 1869 ( दिल्ली ) में हुआ । 

1 32
madhubala

जिनके ज़िक्र के बगैर हिंदी सिनेमा का इतिहास नहीं लिखा जा सकेगा। प्रेम की शाश्वत प्यास की प्रतीक मरहूम मधुबाला को उनके यौमे पैदाईश (14 फरवरी) पर उनके व्यक्तिगत जीवन पर केंद्रित आलेख । लेखक : पूर्व आई० पी० एस० पदाधिकारी, कवि : ध्रुव गुप्त 

0 54
image of Ramchandra-Narayanji-Dwivedi

सैन्य-वीरों के त्याग और तप को संजोने वाले गीतों के रचनाकार स्व कवि प्रदीप उर्फ़ रामचन्द्र नारायणजी द्विवेदी जी की जयंती पर प्रस्तुत है यह आलेख । लेखक : पूर्व आईपीएस अधिकारी एवं कवि ध्रुव गुप्त 

0 39
Mohammed Rafi

मरहूम मोहम्मद रफ़ी भारतीय फिल्म संगीत की वह अज़ीम शख्सियत थे जिनकी आवाज़ की शोख़ियों, गहराईयों, उमंग

0 43