“ईश्वर क्यों चुप है”


rajanish_vbc_2“ईश्वर क्यों चुप है”

सोने के सिंघासन पर बैठे हुए
स्वर्ण मुकुटधारी भगवान से
उसने कुछ नहीं माँगा था !
बचाना चाहता था ..
एक ज़िन्दगी !
दहेज पिपासुओं से
इसी कोशिस में !
उससे माँगा उसकी मुकुट…
वो न हाँ’ बोला न ना’ बोला….
अक्सर चुप्पी को सहमति मान ली जाती है साहब !
मुकुट पाकर बहूत खुश था वो
भगवान ने उसकी मदद जो की थी

भगवान के सर से मुकुट गायब !
सनसनी खेज ख़बर
शहर में आग की तरह फैली
भगवान के आलावे किसी और ने भी देखा था उसे
क्रोधित भक्तों ने कर दिया खून…
उस मज़बूर बाप का….
बिना सच्च जाने…
हक़ीक़त भगवान को पता था ।
भगवानों की दुनियाँ में ….
ऐसा अक़्सर होता रहता है साहब !

कुछ दिनों के बाद
पहली बार उसकेे दहलीज़ के पार आइ थी
वो नहीं ….उसकी जली हुई लाश !
अख़बार वालों ने लिखा था
वो उसी मुकुट चोर की बेटी थी !
मैं एक जज हूँ !
मैं कहता हूँ….
हर बात के तह में होती है एक बात
हत्यारा कोई नहीं वो भगवान है
जो अब तक चुप है…!!

© रजनिश प्रियदर्शी


rajanish_vbc
“रजनिश प्रियदर्शी की फ़ाइल फोटो”

Mob. No. 9534350530

https://www.twitter.com/rajanishwriter

email  : rajanishpriyadarshi@gmail.com

https://www.facebook.com/rajanishwriter


प्रिय पाठक vicharbindu.com पर प्रकाशित यह कविता “ईश्वर क्यों चुप है” आपको कैसी लगी comment box में अपना राय आवश्य प्रस्तुत करें !


क्या आप अपना आलेख/कविता/कथा/समीक्षा/इत्यादि  vicharbindu.com पर प्रकाशित करवाना चाहते हैं ? तो मेल करें vicharbindu.raj@gmail.com पर या आप whatsapp कर सकते हैं 9534350530 पर ।
हमारे सम्पादक मंडल से अप्रूव होने पर आपका आलेख/कविता/कथा/समीक्षा/इत्यादि प्रकाशित किया जा सकता है । धन्यवाद !
Previous योगी से महामात्य तक का सफ़रनामा !
Next युवाओं में बढ़ रहा Entrepreneur बनने का क्रेज़

No Comment

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *