सर्दी की बीमारियों से बचने के, नुस्खे


colds-diseases-some-simple-tips

हम सभी जानते है की सर्दी के महीनों में सबसे ज़्यादा संक्रमण वायरस और बैक्टीरिया से होता है, क्योंकि ये मौसम उनके संवहन के लिए सबसे अनुकूल होता है.इस मौसम में डॉक्टर्स के यहां भी ज़्यादातर मरीज संक्रमित बीमारियों की वजह से पहुंचते हैं. आइए जानते हैं कुछ ऐसी आदतों के बारे में जो आपको सर्दी के रोगाणुओं से बचाती हैं.

शुरुआत हाथ धोने से करें

यह जितना सहज है उतना ही महत्वपूर्ण भी. लेकिन कई लोग इसे गंभीरता से नहीं लेते हैं. हमें हाथ धोने के लिए कम से कम 20 सेकंड का समय देना चाहिए. हाथ धोने के लिए रोगाणु नाशक साबुन, लोशन या हैण्ड वॉश का इस्तेमाल करना चाहिए. अगर आप सैनीटाइजर का इस्तेमाल करते है तो इसे पर्याप्त मात्रा में लगाए और अच्छी तरह सूख जाने के बाद ही हाथ धोएं.

अपने रोजमर्रा की वस्तुएं Share न करें

आपने घर में एक-दूसरे के कपड़े, रुमाल, तौलिए आदि का प्रयोग न करें. ऑफिस में भी पेन के अलावा ऐसी वस्तुओं को साझा न करें जिससे संक्रमण होने की संभावना हो.

व्यायाम को अपनी आदत बनाएं

जो लोग सप्ताह में पांच या इससे ज़्यादा दिन नियमित व्यायाम करते हैं उन लोगों में संक्रमित होने की संभावना 43 प्रतिशत कम होती है. एक शोध से स्पष्ट है कि “व्यायाम करने से आपके शरीर की इम्यून सेल के प्रवाह में बढ़ोत्तरी होती है और अपशिष्ट टॉक्सिन शरीर से बाहर निकल जाते हैं.”

शरीर में पानी की कमी न होने दें

शरीर में पानी की कमी होने से रोगाणुओं से लड़ने वाली श्लेष्मल झिल्ली कमजोर हो जाती है जिससे संक्रमण होने की संभावना बढ़ जाती है, जिससे आप बीमार हो सकते हैं. इससे बचने के लिए हमें दिन भर में 2 से 3 लीटर पानी जरूर पीना चाहिए.

मीठे का ज्यादा सेवन करने से बचें

बेहतर इम्यून सिस्टम के लिए ज़्यादा मीठा खाने से परहेज कीजिए. एक शोध से स्पष्ट हुआ है कि जो व्यक्ति छह चम्मच शक्कर का सेवन करते हैं, उनकी श्वेत रक्त कणिकाओं की रोगाणुओं से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है. जिससे इम्यून सिस्टम प्रभावित हो जाता है, जिससे बीमार होने की आशंका बढ़ सकती है.

Previous सुविख्यात वैज्ञानिक Thomas Edison
Next महान दार्शनिक अरस्तु के प्रेरक विचार

2 Comments

  1. Deepak Gupta
    December 11, 2015
    Reply

    Good

  2. There are go through some great info the following. Undoubtedly benefit book-marking intended for revisiting. We shock how a great deal effort you set to generate this kind of amazing helpful site.

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *