नया लेख

भारत रत्न और नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित मदर टेरेसा का पूरा नाम “अग्नेशे गोंकेशे बोज़शियु था” इनका जन्म मेसिडोनिया में 26 अगस्त, 1910 तथा अवसान : 5 सितम्बर, 1997 को हुआ था. मानव-मात्र की पीड़ा हरने की खातिर किए गए कार्यों के लिए 2016 में उन्हें संत की उपाधि दी गई थी.

अभी कल को मैंने एक फेसबुक पर एक पंजाबी गीत के बोल पोस्ट किया था. हमारे कई मित्रों ने अपने तरीके से अलग-अलग मतलब निकाले. कई लोगों को ये तक लगा कि मेरा ‘फिर से’ (…… ‘फिर से’) किसी के साथ चक्कर आरंभ हो गया. कुछ लोग तो इनबॉक्स तक पहुँच गए कि क्या कहाँ …

एक राजनेता के जीवन में पर्दे के पीछे चलते हुए उसके जीवन के घटनाक्रमों और दुःख-दर्द में भीगी हुई कलम से लिखा हुआ यह अदभुत लेख मनोहर पर्रिकर जी लिखते हैं – “राजभवन का वह हॉल कार्यकर्ताओं की भीड़ से ठसाठस भरा हुआ था. पहली बार गोवा में भाजपा की सरकार बनने जा रही है, …

साहित्य

साहित्यिक गतिविधियाँ तथा पुस्तक चर्चा
Atal Bihari Vajpayee

अटल जी कहते थे, “मेरी कविता जंग का एलान है, यह पराजय की प्रस्तावना नहीं | वह हारे हुए सिपाही का नैराश्य-निनाद नहीं, जूझते यौद्धा का जय संकल्प है, वह निराशा का स्वर नहीं, आत्मविश्वास का जयघोष है |”

0 236
sailing-boat

मैं नाव के अगले माईन पर बैठा था और मेरी नजरें जलकुंभी के फूलों पर टिकी थी जो धीरे-धीरे मेरे पास आती जा रही थी । करमी के फूलों की पृष्ठभूमि में उसकी खूबसूरती और बढ़ गई थी।

0 120

MENU

Back

आज का विचार

चार झा जी मिल के एक वैबसाइट पर हैं, वो कम है क्या!

— खट्टर काका, भरकुस्सा पुर