image of manohar parrirkar

एक राजनेता के जीवन में पर्दे के पीछे चलते हुए उसके जीवन के घटनाक्रमों और दुःख-दर्द में भीगी हुई कलम से लिखा हुआ यह अदभुत लेख मनोहर पर्रिकर जी लिखते हैं – “राजभवन का वह हॉल कार्यकर्ताओं की भीड़ से ठसाठस भरा हुआ था. पहली बार गोवा में भाजपा की सरकार बनने जा रही है, …

0 93
image of holi

सामाजिकता का चलन ख़त्म होने के साथ हमारी उम्र के लोगों के लिए होली अब स्मृतियों और पुराने फिल्मी गीतों में ही बची रह गई है. आज भोले बाबा की बूटी का प्रसाद ग्रहण कर यूट्यूब पर अपने मनपसंद पुराने होली गीत सुन रहा था कि गांव में बीती बचपन की कई होलियां याद आ …

0 63

अविनाश मिश्र कविता के अति विशिष्ट युवा हस्ताक्षर हैं. इस संग्रह में शामिल कविताएँ एक लम्बी कविता के दो खंडों के अलग-अलग चरणों के रूप में प्रस्तुत की गई हैं. कवि प्रेम में आता है और साथ लेकर आता है—कामसूत्र. वात्स्यायन कृत कामसूत्र. इसी संयोग से इन कविताओं का जन्म होता है. कवि प्रेम और …

0 61
Image Of Shivesh Anand

डियर क्रश  डेढ़ साल तक मैं तुम्हें क्लास में देखता रहा परन्तु नाम तक नहीं पूछ सका. ऐसा नहीं है कि मैं पुराने ख़यालातों का था जिसे लड़कियों से बात करने में डर अथवा झिझक होती है. मैं फट्टू या डरपोक भी नहीं था. बात करने के तौर तरीकों में भी माहिर था.. और हूँ …

1 98
image of aadi shiva

भगवान शिव आदियोगी हैं. योग के जन्मदाता और आदिगुरु. योगियों और सन्यासियों के लिए महाशिवरात्रि वह रात्रि है जब लंबी साधना के बाद शिव को योग की उच्चतम उपलब्धियां हासिल हुई थीं.

0 16
Image of writer Prabhat Ranjan Praneeth

गए कुछ साल हिन्दी साहित्यिक जगत में महत्वपूर्ण रहे हैं. इस बीच हिन्दी में कुछ ऐसे लोगों का आना हुआ है, जो यूं तो मार्केटिंग या तकनीकी क्षेत्र से सम्बन्ध रखते हैं किन्तु अपने भाषाई प्रेम के कारण हिन्दी में लिख रहे हैं.

0 66
image of radicals

चलिए हमलोग  प्राथमिक कणों के खूबसूरत और कौतूहलपूर्ण संसार की सैर करते हैं. प्राथमिक या मूलभूत कण अर्थात जो अन्य कणों से मिलकर नहीं बने हों.

0 36
parpose day

आज ‘प्रोपोज डे’ की धूम देखकर अपनी नाकाम जवानी पर अफ़सोस हुआ. हमारी पीढ़ी में अपने सपनों की मलिका के सामने प्रेम का प्रस्ताव रखने का साह्स कम ही होता था.

0 53
image of khadi

“खादी” का अर्थ है कपास, रेशम या ऊन के हाथ कते सूत, भारत में खादी या खद्दर हाथ से बनने वाले वस्त्रों को कहते हैं. इसका सूत चरखे की सहायता से बनाया जाता है. भारत के स्वतंत्रता आन्दोलन में खादी का बहुत महत्व रहा. गांधीजी ने 1920 के दशक में गावों को आत्मनिर्भर बनाने के …

0 74
mihir jha bali yatra

कुछ जगहें आपको वापस बुलाती हैं, एक बार फिर से जाने को दिल मचलता है. हमारी बाली यात्रा कुछ ऐसी ही थी. मेरी पत्नी के लिए तो यह पहली नज़र का प्यार था.

0 75