दो शहरों की कहानी


a-tale-of-two-cities-in-hindi

एक मुसाफिर ने सड़क के किनारे बैठी महिला से पूछा, आगे जो शहर आने वाला है, उस शहर के लोग कैसे हैं ? ‘तूम जहाँ से आ रहे हो वहाँ के लोग कैसे थे ?’ – महिला ने पूछा.

a-tale-of-two-cities-in-hindi

मुसाफिर ने जबाब दिया – ‘बहुत बुरे लोग थे ! स्वार्थी, भरोसेमंद भी नहीं थे’

महिला ने कहा – ‘बस इसी तरह के लोग तुम्हें इस शहर में भी मिलेंगे’

पहले मुसाफिर को गए हुए कुछ ही समय हुआ था कि दूसरा मुसाफिर वहाँ आया और उसने भी महिला से वही सवाल किया. महिला ने उससे भी वही पूछा कि पिछले शहर के लोग कैसे थे ?

दुसरे मुसाफिर ने जबाब दिया , ‘वे सब बहुत अच्छे थे. ईमानदार, मेहनती और दूसरों की गलतियाँ नजरंदाज करने वाले. मुझे उस शहर को छोड़ने का बहुत अफ़सोस हुआ’

उस विदुषी महिला ने कहा, ‘बस इसी तरह के लोग तुम्हें इस शहर में मिलेंगे !

Must Read : लघुकथा – पिता और पुत्र 


निवेदन : कहानी अच्छी लगी हो तो कृपया शेयर आवश्य कीजिए ! जय हिन्द

Previous हमारा ध्यान कहाँ किन बातों पर होना चाहिए
Next खुशमिजाज लोग क्या करते हैं ?

No Comment

Leave a reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *