हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए


dushyant-kumar

पढिये दुष्यंत कुमार की लोकप्रिय प्रेरणात्मक कविताएँ “हो गई है पीर- पर्वत सी / कुछ भी बन बस, कायर मत बन / और ये जो शहतीर है

-: हो गई है पीर पर्वत-सी :-

हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए इस                                                                                                                                   हिमालय से नई गंगा निकलनी चाहिए ।

आज यह दिवार, परदों की तरह हिलने लगी,                                                                                                                               शर्त लेकिन थी कि ये बुनियाद हिलनी चाहिए ।

हर सड़क पर, हर गली में, हर नगर, हर गाँव में,                                                                                                                          हाथ लहराते हुए हर लाश चलनी चाहिए ।

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं,                                                                                                                                सारी कोशिश है कि ए सूरत बदलनी चाहिए ।

 मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही,                                                                                                                                      हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए ।

        -: कुछ भी बन :-

कुछ भी बन , बस कायर मत बन ।                                                                                                                                     ठोकर मार पटक मत माथा ।

तेरी राह रोकते पाहन ।                                                                                                                                           कुछ भी बन , बस कायर मत बन ।

तेरी रक्षा का न मोल है ।                                                                                                                                            पर तेरा मानव अनमोल है ।

यह मिटता है वह बनता है ।                                                                                                                                           अर्पण कर सर्वस्व मनुज को । 

कर न दुष्ट को आत्म समर्पण ।                                                                                                                                    कुछ भी बन बस कायर मत बन । 

-: ये जो शहतीर है  :-

ये जो शहतीर है , पलकों पे उठा लों यारों ।                                                                                                                                 अब कोई , ऐसा तरीका भी निकालो यारों ।

दर्दें दिल वक्त पै पैगाम भी, पहुंचाएगा ।                                                                                                                                       इस कबूतर को जऱा प्यार से पालो यारों ।

लोग हाथों में लिए बैठे हैं , अपने पिंजरे ,                                                                                                                               आज सैयाद को महफ़िल में बुला लों यारों ।

आज जीवन को उधेड़ो तो, ज़रा देंखेंगे ,                                                                                                                                    आज संदूक से वो ख़त तो निकालो यारों । 

रहनुमाओं के अदा पै, फ़िदा है दुनियां ,                                                                                                                                     इस बहकती हुई दुनियां को, संभालो यारों । 

कैसे आकाश में सुराख़, हो नहीं सकता ,                                                                                                                                एक पत्थर तो तबियत से उछालों यारों ।

लोग कहतें हैं की, ये बात नहीं कहने कि ,                                                                                                                                 तुमनें कह दी है तो, कहने की सज़ा लों यारों ।

Previous मशहुर शायरियाँ और शायर
Next महान दार्शनिक प्लेटो के प्रेरक विचार

1 Comment

  1. March 31, 2016
    Reply

    nice motivative lines……

Leave a reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *