समस्या में समाधान ढूँढना चाहिए


image of island

एक बार एक जूता बनाने की कम्पनी ने दो यूवकों को मार्केटिंग ऑफिसर बना कर एक द्वीप पर भेजा ताकि वो वहाँ पर उस कम्पनी के बने जूते के लिए बजार की सम्भावनाएं टटोल सकें. कुछ दिनों के बाद.

दोनों ने अपने मेनेजर को एक-एक टेलीग्राम भेजा. जिसके तुरंत बाद उनमें से एक को नौकरी से निकाल दिया, जबकि दुसरे को स्थायी कर दिया गया.

हटाये गए ऑफिसर का टेलीग्राम था – ‘सर, यहाँ कोई भी व्यक्ति जूता नहीं पहनता, इसीलिए हमारे जूतों की यहाँ कोई सम्भावना नहीं है.’

जबकि दुसरे ऑफिसर का टेलीग्राम था – ‘सर यहाँ कोई भी जूता नहीं पहनता,  इसीलिए यहाँ हमारे जूतों के लिए अपार सम्भावनाएं हैं.’

सीख : सकारात्मक नजरिया रखने वाले लोग न केवल सफल होते हैं, बल्कि उनकी आमदनी भी अधिक होती है. सकारात्मक नजरिया रखने वाले लोग समस्या में समाधान ढूंढने हैं, जबकि नकारात्मक नजरिया के लोग समाधान में समस्याओँ को ढूंढते हैं.

Previous पांडव का संदेश - रामधारी सिंह दिनकर
Next आइए सीखें वित्तीय प्रबंधन

No Comment

Leave a reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *