लौकी, कई गुणों का ख़जाना


loki vegetableमित्रों लौकी एक ऐसा सब्जी है जिसमें कई गुणों का ख़जाना है । यह विभिन्न रोगों में फायदेमंद है जैसे की  गैस, कब्ज और खांसी की समस्या, किडनी डिसीज, टीबी, हार्ट डिसीज, सीने में जलन, मिर्गी, हैजा,  डायरिया, आदि रोगों में बहूत ही फयदेमन्द है ।

  1. आप इसका उपयोग सलाद के रूप में एवं रस निकालकर कर सकते हैं । सब्जी के रूप में तो लंबे समय से इसका प्रयोग  किया जाता रहा है । लौकी को कच्चा भी खाया जाता है । यह पेट साफ करने में भी बहुत ही फायदेमंद होता है, साथ ही यह हमारे शरीर को स्वस्थ और टॉक्सिक फ्री भी बनाती है ।
  2. अगर आप  एसिडीटी, कब्ज, पेट की बीमारियों अल्सर एवं खाने के बाद अगर पेट में किसी प्रकार की कोई परेशानी महसूस हो रहें, हो तो लौकी का जूस पिएं यह बहूत ही फायदेमंद होता है ।
  3. ऐसे लोग जिन्हें खांसी, टीबी, सीने में जलन आदि है । उनके लिए लौकी बहुत उपयोगी होती है ।
  4. अगर कोई वक्ति हार्ट डिसीज से ग्रसित हैं,  तो खाने के बाद एक कप लौकी के रस में थोड़ी-सी काली मिर्च और पुदीना डालकर पीने से ह्रदय रोग में आराम मिलता है ।
  5. अगर किसी वक्ति को हैजा हो गया हो तो,  25 मिली लौकी के रस में आधा नींबू का रस मिलाकर धीरे-धीरे पिएं । इससे यूरिन बहुत आता है और लाभ होता है ।
  6. लौकी किडनी के रोगों में बहुत उपयोगी है और इसके सेवन से मूत्र खुलकर आता है ।
  7. यह कोलेस्ट्राल को काम करने में मददगार है, लौकी में मिनरल्स अच्छी मात्रा में मिलते हैं। लौकी के बीज का तेल कोलेस्ट्रॉल को कम करता है तथा हृदय को शांत रखता है । यह ब्लड की नाडिय़ों को भी स्वस्थ बनाता है ।
  8. कब्ज और पीलिया जैसे बीमारी में यह बहूत फायदेमंद होता है,  इसका उपयोग आंतों की कमजोरी,कब्ज, पीलिया, हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, शरीर में जलन या मानसिक उत्तेजना आदि में होता है ।
  9. अगर किसी वक्ति को डायरिया हो गया हो तो इनको केवल लौकी का जूस हल्के नमक और चीनी के साथ मिलाकर पिलाया जाए तो यह नेचुरली हेल्दी जूस बन जाता है । जो बहूत फायदेमंद होता है ।
  10. मिर्गी वाले मरीज को लौकी का रस पिलाना बहूत ही फायदेमंद होता है ।
Previous हेनरी फ़ोर्ड महोदय / Henry Ford
Next ससुराल भी अपनी घर जैसी.....

1 Comment

  1. DIVAKAR JHA
    December 24, 2015
    Reply

    Good.very helpfull blog….

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *