हेनरी फ़ोर्ड महोदय / Henry Ford


Henry Fordमित्रों फोर्ड मोटर के मालिक हेनरी फोर्ड दुनिया के चुनिंदा धनी व्यक्तियों में से एक थे। एक बार एक भारतीय उद्योगपति जो भारत में मोटर कारखाना लगाना चाहते थे, उससे पहले फोर्ड से सलाह लेने के लिए अमेरिका गए । उन्होंने अमेरिका पहुंच कर हेनरी फोर्ड से मिलने का समय मांगा ।  

फोर्ड ने कहा, दिन में मैं आपके लिए ज्यादा समय नहीं निकाल पाऊंगा,  इसलिए आप शाम छह बजे आ जाइए।’ वह शाम को छ: बजे उनके घर जा पहुंचे । वहां एक आदमी बर्तन साफ कर रहा था । उन्होंने उससे कहा, ‘मुझे हेनरी साहब से मिलना है ।’

वह आदमी उन्हें बैठने को कह कर अंदर चला गया । थोड़ी देर बाद उसने उनके सामने आकर कहा, ‘तो आप हैं वह भारतीय उद्योगपति । मुझे हेनरी कहते हैं ।’ भारतीय उद्योगपति को असमंजस में देखकर हेनरी ने कहा, ‘लगता है आपको मेरे हेनरी होने पर संदेह हो रहा है।’

भारतीय उद्योगपति ने कहा, ‘हां सर, अभी आपको एक नौकर का काम करते देखकर आश्चर्य हुआ । इतनी बड़ी कंपनी के मालिक को बर्तन साफ करते हुए देखकर किसी को भी भ्रम हो सकता है।’ हेनरी ने कहा, ‘शुरुआत में मैं एक साधारण इंसान था । अपना काम खुद करता था । अपने हाथ से किए गए कठोर परिश्रम का ही फल है कि आज मैं फोर्ड मोटर का मालिक बना हूं ।

मैं अपने अतीत को भूल न जाऊं और मुझे लोग बड़ा आदमी न समझने लगें,  इसलिए मैं अपने सभी काम खुद करता हूं । अपना काम करने में मुझे किसी तरह की शर्मिंदगी और झिझक महसूस नहीं होती।’ भारतीय उद्योगपति उठकर खड़े हो गए और बोले,  ‘सर, अब मैं चलता हूं। जिस मकसद से आपके पास आया था, वह एक मिनट में ही पूरा हो गया। मेरी समझ में आ गया कि सफलता की कुंजी दूसरों पर भरोसा करने में नहीं, अपने आप पर भरोसा करने में है।’


 

प्रिय पाठकों आपको हमारा यह लेख कैसा लगा comment box के माध्यम से हमें आवश्य बतायें । एवं शेयर करें । धन्यवाद …!

 

Previous अमरुद, कई गुणों का ख़जाना
Next लौकी, कई गुणों का ख़जाना

1 Comment

  1. Deepak Gupta
    December 28, 2015
    Reply

    Fantastic

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *