महात्मा बुद्ध- एशिया के ज्योति-पुंज


buddha quotes in hindi

एशिया के ज्योति-पुंज (Light of Asia) कहें जाने वाले, बौद्ध धर्म के संस्थापक महात्मा गौतम बुद्ध के जीवन का संछिप्त परिचय, धर्म-दर्शन एवं प्रेरणात्मक विचार.

भगवान बुद्ध का जन्म 563 ई० पू० कपिलवस्तु के समीप लुम्बिनी ग्राम के आम्र-कुंज में शाक्य क्षत्रिय कुल के राजा शुद्धोधन के यहाँ हुआ. इनके माता का नाम महामाया था, जो इनके जन्म के सातवें दिन ही मृत्यु को प्राप्त हो गई थी, अत: इनका पालन-पोषण इनकी मौसी प्रजापति गौतमी ने किया था, इसलिए इनका नाम गौतम चर्चित था, इनके बचपन का नाम सिद्धार्थ गौतम था. 16 वर्ष की आयु में इनका विवाह यशोधरा से करा दिया गया. जिनसे राहुल नाम का पुत्र प्राप्त हुआ.  29 वर्ष की अवस्था में इन्होंने गृह त्याग दिया, इसी घटना को बोद्ध धर्म के अनुसार महाभिनिष्क्र्मण कहा गया है. 80 वर्ष की अवस्था में 483 ई० पू० कुशीनगर (देवरिया उत्तरप्रदेश) में बुद्ध की मृत्यु हो गई, जिसे बौध धर्म में “महापरिनिर्वाण” कहा गया है.


एक बार किसी ने भगवान् से पूछा  “जहर क्या है  ?” बुद्ध ने बहूत सुन्दर जबाब दिया  ” हर वो चीज जो जिन्दगी में आवश्यकता से अधिक होती है वही जहर है. ( फिर चाहे वो ताकत हो, धन हो, भूख हो, लालच हो, अभिमान हो, आलस हो, महत्वाकांक्षा हो, प्रेम हो या घृणा आवश्कता से अधिक जहर ही है. )


एक बार भगवान बुद्ध अपने शिष्यों के साथ एक गॉव से दुसरे गॉव जा रहे थे, तभी बुद्ध ने एक नवयूवती को जो कीचड़ में गिरी हुई थी, उसे कीचड़ से उठा कर बाहर बिठा दियें. घटना वही ख़त्म हो गई और बुद्ध अपने रास्तें चल पड़े.

एक सप्ताह बाद एक शिष्य भगवान बुद्ध के पास आया और कहने लगा की प्रभु ! में पिछले एक सप्ताह से इस विषय पर सोच रहा हु कि आपने सन्यासी हो कर भी उस नवयुवती को क्यों उठाया ? भगवान् बुद्ध बोले, ‘मेनें उस नवयुवती को कुछ क्षणों के लिए उठाया था, परन्तु तुम तो उस नवयुवती को एक सप्ताह से मन में उठाकर घूम रहे हो ।’

मैं हमेशा देखता हूँ कि क्या किया जाना बांकी है. मैं कभी नहीं देखता की क्या किया जा चुका है.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : खुशियों का कोई रास्ता नहीं, खुश रहना ही रास्ता है.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : हजारों शब्दों से अच्छा वह एक शब्द है.  जो शांति लाता है.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

 Quote : तीन चीजें कभी भी छुपी नहीं रह सकती – सूर्य, चन्द्रमा और सत्य.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

 Quote : मनुष्य का दिमाग ही सब कुछ है, जो वह सोचता है वही वह बनता है.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

  Quote : जब मन पवित्र होती है तो ख़ुशी परछाई की तरह हमेशा हमारे साथ चलती है.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : एकांत तथा शांति का रस पीकर मनुष्य निडर होता है और धर्म का प्रेम रस पी कर निष्पाप.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : स्वस्थ ! सबसे बड़ा उपहार है, संतोष ! सबसे बड़ा धन और वफ़ादारी ! सबसे बड़ा संबंध.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : क्रोधित रहना, जलते हुए कोयले को किसी दूसरे वक्ति पर फेंकने की इच्छा से पकड़े रहने के समान है. यह सबसे पहले आप को ही जलता है.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

 Quote : भूतकाल में मत उलझो, भविष्य के सपनों में मत खो जाओ. वर्तमान पर ध्यान दो. यही खुश रहने का रास्ता है.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : सात सागरों के जल की अपेक्षा मानव के नेत्रों से कहीं अधिक आंसू बह चुके हैं.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : अगर आप वाकई में अपने आप से प्रेम करते है, तो आप कभी भी दूसरों को दुःख नहीं पहुंचा सकते.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : तुम्हें अपने क्रोध के लिए सजा नहीं मिलती, बल्कि तुम्हें अपने क्रोध से ही सजा मिलती है.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : किसी विवाद में हम जैसे ही क्रोधित होते हैं, हम सच का मार्ग छोड़ देते हैं, और अपने लिए प्रयास करने लगते हैं.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : सत्य के मार्ग पर चलते हुए व्यक्ति केवल दो ही गलतियाँ कर सकता है- या तो पूरा रास्ता न तय करना या फिर शुरुआत ही न करना.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : उस काम को करना अच्छा नहीं, जिसे करके पीछे पछताना पड़े और जिसका फल रोते-बिलखते भोगना पड़े. उसी काम को करना ठीक है, जिसे करके पीछे पछताना न पड़े और जिसका फल मनुष्य प्रसन्नचित होकर ग्रहण करें.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

 Quote : सभी गलत कार्य मन से ही उपजाते हैं. अगर मन परिवर्तित हो जाय तो क्या गलत कार्य रह सकता है.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : हजारों लड़ाईयां जितने से अच्छा यह है कि तुम स्वयं पर विजय प्राप्त कर लो. फिर जीत हमेशा तुम्हारी है. इसे तुमसे कोई नहीं छीन सकता, न स्वर्गदूत और न राक्षस.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : आप चाहें जितनी भी किताबें पढ़ लें,  कितने भी अच्छे शब्द सुन लें उनका कोई फ़ायदा नहीं जब तक कि आप उनको अपने जीवन में नहीं अपनाते.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : घृणा ( बुराई ) से घृणा ( बुराई ) कभी खत्म नहीं हो सकती. घृणा को केवल प्रेम द्वारा ही समाप्त किया जा सकता है. यह एक प्रकृतिक सत्य है.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : मंजिल या लक्ष्य तक पहुंचने से ज्यादा महत्वपूर्ण यात्रा अच्छे से करना होता है.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : संदेह या शक की आदत से भयानक कुछ भी नहीं. संदेह लोगों को अलग करता है, मित्रता ख़त्म करता है, और अच्छे रिश्तों को तोड़ता है.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : मैं हमेशा देखता हूँ कि क्या किया जाना बांकी है. में कभी नहीं देखता की क्या किया जा चुका है.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : जैसे मोमबत्ती बिना आग के नहीं जल सकती, मनुष्य भी आध्यात्मिक जीवन के बिना नहीं जी सकता.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : मनुष्य जन्म से ही न तो मस्तक पर तिलक लगा कर आता है, ना यज्ञोपवीत. जो सत्कार्य करता है, वह द्विज है और जो कुकर्म करता है, वह नीच.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : एक जलते हुए दीपक से हजारों दीपक रोशन किये जा सकते हैं, फिर भी उस दीपक की रोशनी काम नहीं होती है. उसी तरह खुशियाँ बटने से बढती है कम नहीं होती हैं.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध

Quote : सचमुच, जो अपने को न देख कर केवल दूसरों को देखता है, वही अँधा होता है. जो खुद को देखता है, वह अँधा नहीं होता. मनुष्य को चाहिए की वो स्वयं को देखे की वह क्या हैं ? अपने को ही कसोटी पर परखे. ऐसा करने वाला मनुष्य सब पाप-दोषों से अपनी रक्षा करता है. उसका जीवन धन्य हो जाता है. उसके सभी दुर्गुण निकल जाते हैं. तब वह वास्तव में सच्चा मनुष्य बन जाता है.

 – Gautam Buddha / गौतम बुद्ध
Previous गणतंत्र दिवस पर राष्ट्र के नाम संदेश
Next व्यक्तित्व-विकास के मुलभुत तत्व एवं तर्क

No Comment

Leave a reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *