सफलता के मूल मंत्र Success Tips and Ideas


SUCCESS TIPS AND IDEAS

सफलता के मूल मंत्र Success Tips and Ideas आखिर वह कौन सी शक्ति है जो हमारी सफलता या असफलता निर्धारित करती है ? क्या हमारी सफलता को हमारा भाग्य निर्धारित करता है  या कोई और ?

सफलता प्राप्ति के लिए क्या जरूरी है ?

यदि हमारा आस्तित्व है तो निश्चित ही हर पल हमारे पास कोई न कोई लक्ष्य होता होगा । इस दुनिया में प्रत्येक मनुष्य की हसरत होती है कि वो सफलता के तमाम ऊंचाइयों को छू ले । परंतु व्यवहारिक जीवन में सभी लोग सफल नहीं हो पाते । आखिर वह कौन सी शक्ति है जो हमारी सफलता या असफलता निर्धारित करती है ? क्या हमारी सफलता को हमारा भाग्य निर्धारित करता है  या फिर कोई और ? इस आलेख में हम इन्हीं बिंदुओं पर विमर्श करेंगे ।

क्या लक्ष्य निर्धारण कर लिया आपने ?

कई बार हमें पता नहीं होता कि हमारा लक्ष्य क्या है । हमारे लिए सफलता की क्या परिभाषा है ? उदाहरण के लिए हम गवर्नमेंट जॉब को लक्ष्य बनाते हैं, पर हमें जॉब नहीं पैसा चाहिए । प्रत्येक के लिए सफलता के मायने अलग-अलग होते है ? किसी को पैसा, किसी को शोहरत, किसी को सुकून, तो किसी को पदवी चाहिए । सर्वप्रथम हम यह निश्चित कर लें कि वास्तव में हमारा लक्ष्य क्या है ?

सफलता के महत्वपूर्ण घटक क्या हैं ?

लक्ष्य चुन लेने के बाद हमें कर्म करना चाहिए, तब तक जब तक कि हम अभीष्ट की प्राप्ति ना कर लें । कैसी भी विपरीत परिस्थितियाँ आए हम अपने आत्मविश्वास और इच्छाशक्ति से परिस्थिति को अनुकूल बना सकते हैं । यदि हम अपने लक्ष्य के प्रति समर्पित होंगे तो कोई भी बाधा नहीं रोक सकती ।

कैसे बढाएँ आत्मविश्वास ?

सफलता प्राप्ति के लिए सबसे महत्वपूर्ण घटक आत्मविश्वास है । यदि हम सकारात्मक परिवेश में रहेंगे तो हमारा आत्मविश्वास बढ़ेगा, वहीं नकारात्मक परिवेश में घटेगा । हम एक उदाहरण लेते हैं । एक लड़का गवर्नमेंट जॉब के लिए पटना में तैयारी करता है । यदि कुछेक दिन लोग उसे कहें कि पटना में तैयारी संभव नहीं, तुम्हें दिल्ली जाना चाहिए । आप यकीन मानिये उस लड़के का आत्मविश्वास गिर जाएगा । जिसका असर उसके तैयारी पर साफ दिखाई पड़ेगा । वह मन ही मन मान लेगा कि पटना में तैयारी संभव नहीं । ठीक इसके उलट लोग उसे कहें कि जब छोटे शहर के छात्र गवर्नमेंट जॉब ले लेते हैं फिर पटना में क्यों नहीं ? आप देखिये वही लड़का क्या नहीं कर सकता ।

सफलता के लिए सकारात्म परिवेश आवश्यक

इस तरह से हमने देखा कि आत्मविश्वास हमारे परिवेश पर निर्भर करता है । तो चलिये आज से हम सकारात्मक विचारधारा वाले लोगों के साथ रहें । हम ऐसे दोस्त बनायें जो पॉजिटिव बातें करते हों । ऐसा करने से हमारा आत्मविश्वास बढ़ने लगेगा और हमे सफलता के रास्ते दिखाई देना शुरू हो जायेंगे । तो फिर देर किस बात की दोस्तों ?  चलो, हम सफलता के स्वर्णिम अध्याय लिखने के लिए अभी से काम करना शुरु कर दें ।


ये भी पढ़ें !

असफ़लता की ताकत

साहस से सफलता तक 

धेर्य ही सफलता की कुंजी है 

सफलता पर 21 अनमोल विचार 

Previous मलाला यूसुफजई के प्रेरक विचार
Next बहस ! एक चाय वाले से तीन रूपया के लिए

No Comment

Leave a reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *