Posts in tag

आत्म सुधार


cheerful-people

आप जब सुबह उठते हैं तो सबसे ज्यादा अमूल्य क्या पाते हैं. क्या यह सोच कर खुश होते हैं कि आप फिर सुबह का स्वागत करने को तैयार हैं, या फिर सांस लेने पर खुश होते हैं, या फिर कुछ सीखने की इच्छा रखते हैं, या प्रेम के लिए.

0 65
the-te vicharbindu

जीवन जीने के प्रयोजन में हम अपने विचारों को किस दिशा में ले जाएँ, हमारा ध्यान कहाँ किन बातों पर होना चाहिए जिससे हम अपने जीवन में समृद्धि की ऊंचाई को छु सकें !

0 37
courage-quotes-in-hindi

मानव जाति के इतिहास में जो अंश पठनीय है, वे साहस की ही कहानियों से भरे पड़े हैं. अनेकों वीरों ने असंभव को संभव कर दिखाया था.

1 254
SUCCESS TIPS AND IDEAS

सफलता के मूल मंत्र Success Tips and Ideas आखिर वह कौन सी शक्ति है जो हमारी सफलता या असफलता निर्धारित करती है ? क्या हमारी सफलता को हमारा भाग्य निर्धारित करता है  या कोई और ?

0 146
ask-yourself-to-become-smart

हमारे पास दूसरों से पूछने के लिए तो कई तरह के सवाल जबाब होते हैं, लेकिन क्या हमने खुद से कभी कुछ सवाल पूछे हैं जो जरूरी हैं और जिनका पता होने से जिन्दगी आसान बन जायेगी. आप लक्ष्य के ज्यादा करीब पहुंच सकेंगे. अच्छे नतीज़े  भी देखने को मिलेंगे. ऐसे ही कुछ सवालों के …

0 54
do-what-you-love

इस  world में maximum लोग ऐसे हैं , जिन्हें उनका अपना काम पसंद नहीं हैं , मतलब वो लोग जो अपनी life survive करने के लिए जो भी काम करते हैं उनसे वो खुश नहीं हैं, इसका एक ही reason है की उन्हें अपने काम से प्यार नहीं है या लगाव नहीं है ।

0 36
learning practice

ब्रूस ली का कथन है – मुझे उस आदमी से डर नहीं लगता जो 10 हजार तरह की किक के बारे में जानता है, बल्कि उस आदमी से लगता है जो एक ही किक की प्रैक्टिस 10 हजार बार करता है. दरअसल ये फर्क है नॉलेज और प्रैक्टिस का.

1 78
Bamboo-forest

चीन में एक विशेष प्रकार की बांस (bamboo) की प्रजाति पायी जाती है । उसका बीज जमीन में बोया जाता है । उस बीज़ को अंकुरित होने में लगभग 6 महीने का समय लग जाता है ।

0 85
thinking-of-modern-people

हम कहते हैं हम मॉडर्न हो रहें हैं, विकास कर रहें हैं, सच में !  क्या आपने शरीर के बारे में जाना, ये जाना कि हमारा शारीरिक तन्त्र ( system ) कैसे काम करता है ?

0 21
the-importance-of-hospitality-and-disdain

एक थका-मादा शिल्पकार लंबी यात्रा के बाद किसी छायादार वृक्ष के नीचे विश्राम के लिये बैठ गया । अचानक उसे सामने एक पत्थर का टुकड़ा पड़ा दिखाई दिया ।

0 70