मशहूर अभिनेता “देवानंद”


Dev-Anand-and-Waheeda-Rehman

देवानंद का पूरा नाम धर्मदेव आनंद था । इनका जन्म 26 सितम्बर 1923 को शकरगढ़ में हुआ था । अंग्रेजी साहित्य में BA करने के बाद उन्होंने मुंबई में एकाउंटेंट की नौकरी स्वीकार कर ली । साथ हीबड़े भाई चेतन आनंद के साथ थियेटर में अभिनय करने लगे । इस दौरान वह ‘अछूत कन्या’ और ‘किस्मत’ जैसी फ़िल्मों में अशोक कुमार की एक्टिंग से प्रभावित हुए । उनके मन में हीरो बनने की इच्छा जगी ।

Dev-Anand-and-Waheeda-Rehman

1945 में देवानंद प्रभात फिल्म चौकीदार को चकमा देकर निर्देशक बाबुराव के दफ्तर में घुसे । उनका आत्मविश्वास बोलती आँखें और चेहरे की मुस्कान देख राव ने फ़ौरन उन्हें फिल्म देने का मन बना लिया । 1946 में देवानंद को प्रभात स्टूडियो की ‘हम एक हैं’ में लीड रौल निभाने का मौका मिला । फिल्म के सूटिंग के दौरान वो गुरुदत्त के सम्पर्क में आये । इसके बाद दोनों की जोड़ी ने box ऑफिस पर ‘बाजी’ ‘सीआईडी’ और ‘जाल’ जैसी सुपरहिट फ़िल्में दी । ‘गाइड’ ‘हमदोनो’ , ‘ज्वेल’ ‘थीफ़’ और ‘कालापानी’ जैसी फिल्मों से वह करोड़ो दिलों के धड़कन बन गए ।

देवानंद की दीवानगी का आलम यह था की लड़कियाँ उनकी एक झलक पाने को छत से कूद जाती थी । 1960 के दसक में मफलर और हैट को लोकप्रियता दिलाने का श्रेय भी उन्हीं को जाता है । 1965 में देवानंद ‘गाइड’ के लिए  सर्वश्रेशठ फिल्म का राष्ट्रिय पुरुस्कार जितने में कामयाब हुए थे । 2001 में उन्हें पद्मभूषण और 2002 में  दादासाबह फाल्के अवार्ड से नवाजा गया ।

सिनेमा प्रेमियों के बीच अपने बेजोड़ अभिनय मस्तमौला अंदाज, आकर्षक स्टाइल और दिलकश मुस्कान के लिए मशहूर देवानंद 03 दिसम्बर 2011 लन्दन ( ब्रिटेन ) में  परमात्मा में विलीन हो गए ।

Previous औषधीय गुणों से भरपूर एलोवेरा
Next प्रेरणात्मक कहानी - दो घड़ा

No Comment

Leave a reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *